railway recruitment 2019 20 bankersadda

संवाद सहयोगी, कोडरमा: कोडरमा और गिरिडीह जिले के खनिज संपदाओं को चिह्नित करने और जमीन के नीचे उनकी मौजूदगी की मात्रा बताने के लिए खान एवं भूतत्व विभाग की ओर से जिला भूतत्विक कार्यालय का गुरुवार को उद्घाटन किया गया। खान एवं भूतत्व विभाग की निदेशक कुमारी अंजली ने विधिवत कोडरमा प्रखंड के पुराने सभागार में बने इस कार्यालय का उद्घाटन किया। इस कार्यालय के खुल जाने से न सिर्फ कोडरमा और गिरिडीह के कारोबारियों को फायदा पहुंचेगा बल्कि खनन विभाग के जरिए सरकार को राजस्व की भी प्राप्ति होगी। जिले में इस कार्यालय की जिम्मेदारी सहायक निदेशक कुणाल कौशल को दी गई है, जबकि इस कार्यालय में चार जिओलॉजिस्ट और दो सर्वेयर की पोस्टिग की गई है। कार्यालय के उद्धघाटन के मौके पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विभाग की निदेशक कुमारी अंजलि ने कहा कि यह विभाग कोडरमा और गिरीडीह जिले के लिए संयुक्त रूप से कार्य करेगा। उन्होंने बताया कि इस कार्यालय के जरिए दोनो जिले के क्षेत्रों में मौजूद खनिज संपदाओं की जानकारी दी जाएगी, साथ ही जमीन के नीचे उनकी मौजूदगी की मात्रा और उपलब्धता बताने का कार्य भी यह विभाग करेगी। उन्होंने कहा कि इस कार्यालय के खुल जाने से एक बार फिर कोडरमा और गिरिडीह जिले में बंद पड़े माइका व्यवसाय को पुनर्जीवित किए जाने की उम्मीद दिखने लगी है। इस कार्यालय के खुलने से पहले ही माइका के पांच ब्लॉक्स चिन्हित किए गए है जिसे लेकर सरकार को प्रस्ताव भी भेजा जा चुका है। वहीं विभाग के अपर निदेशक विजय कुमार ओझा ने इस कार्यक्रम का संचालन करते हुए बताया कि इससे पहले हजारीबाग जिले में भूतात्विक कार्यालय से उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के 7 जिलों के कार्य संचालित हुआ करते थे, लेकिन अब कोडरमा और गिरिडीह जिले को जोड़कर कोडरमा में भूतात्विक कार्यालय बनाया गया है। अपर निदेशक शरद कुमार सिन्हा ने बताया कि यह कार्यालय नियमित रूप से आज से कार्य करने लगेगा और खनिज संपदाओं से जुड़ी जानकारी इस कार्यालय से कारोबारी प्राप्त कर सकते हैं। कोडरमा कार्यालय प्रभारी और सहायक निदेशक कुणाल कौशल ने बताया कि कोडरमा और गिरीडीह जिला माइका से भरा पड़ा है और जिओलॉजिस्ट एंव सर्वेयर की मदद से माइका के नए ब्लॉक्स ढूंढने का काम किया जाएगा और इसकी जानकारी सरकार को मुहैया कराई जाएगी। इस कार्यालय के खुल जाने से माइका और पत्थर व्यवसायियों में उम्मीद जगी है। माइका कारोबारी अरविद सिंह ने बताया कि जिस कार्य को लेकर उन्हे रांची और हजारीबाग दौड़ना पड़ता था, वह काम अब जिला स्तर पर ही हो जाया करेगा। उन्होंने माइका व्यवसाय को पुनर्जीवित करने के लिए सरकार से कानून में सरलीकरण करने की अपील की। वहीं व्यवसायी दीपक सिंह ने कहा कि यह क्षेत्र खनिज संपदाओं से भरा है, लेकिन माइका और पत्थर व्यवसाय को लेकर कानून इतना जटिल है कि कारोबारियों को इसका लाभ नहीं मिल पाता है। कार्यक्रम में शामिल जिला खनन पदाधिकारी मिहिर सल्कर ने बताया कि इस कार्यालय के जरिए खनिज संपदाओ के नए-नए ब्लॉक्स बनाए जाएंगे और उनसे जो कारोबार संचालित होगा उससे खनन विभाग के राजस्व में बढ़ोतरी आएगी। इस कार्यालय के जरिए कोडरमा और गिरिडीह जिले में मौजूद खनिज संपदा की एक झलक भी देखने को मिलेगी इसे लेकर कार्यालय में खनिज संपदाओं के सेंपल को लेकर एक डिस्पले भी लगाया गया है। मौके पर विभाग के उपनिदेशक मनोज कुमार, सहायक निदेशक कुमार अमिताभ, सीओ अशोक राम, व्यवसायी रामदेव मोदी समेत अन्य लोग मौजूद थे।

Delhi Election: दिल्ली फतह के लिए बीजेपी का '

थैलीसीमिया के मरीजों में संक्रमण की होगी जांच

भाजपा मंडल की बैठक में बूथ कमेटी को मजबूत बना

छत्तीसगढ़ इस बीमारी की रोकथाम में पिछड़ गया;

कोरोना के एक की मौत, 65 संक्रमित

Chaibasa News: जीवन रक्षक ऑक्सीजन प्लांट के ट

कोरोना से बुजुर्ग महिला की मौत, 65 नए संक्रमि

BJP Candidate List 2020: बीजेपी ने जारी की उम

Mathura Corona Update: मथुरा की जिला अदालत मे

Today's Major Programs In Gorakhpur: गोवंश की

नाथ संप्रदाय सभा ने चलाया सफाई अभियान

IAS आलोक शुक्ला को मिला स्वास्थ्य एवं चिकित्स

दो माह बाद प्रशासन की कार्रवाई, कार में विभाग

महाराणा प्रताप जयंती पर होगा कार्यक्रम

इस तरह शव के पास पत्नी सुना रही लव स्टोरी, को

देश में पांच साल में पुलिस के साथ मुठभेड़ों म

सावधान, यहां लागू है धारा 144, अनदेखी पर होगा

सीएम योगी ने कहा- किसानों के असली मसीहा थे चौ

सवर्ण सेवा के राष्ट्रव्यापी बंद का नहीं दिखा

निर्भया के दोषियों के वकील एपी सिंह को दिल्ली