sampada sahakari bank ltd recruitment

नई दिल्ली [स्वदेश कुमार]। पूर्वांचल के महापर्व छठ को सार्वजनिक रूप से मनाने की अनुमति मिलने की खुशी 48 घंटे भी नहीं टिक पाई। शुक्रवार को जारी डीडीएमए (दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) के दिशानिर्देश की वजह से ये खुशी यमुना नदी में ही बह गई। इससे पूर्वांचल के लोगों के साथ छठ पूजा समितियों को भी गहरा झटका लगा है। दो दिन पहले के डीडीएमए के आदेश के बाद पूजा समितियों ने तैयारियां शुरू कर दी थीं। यमुना के घाटों पर निरीक्षण शुरू हो गए थे लेकिन अचानक अब सब रोकना पड़ रहा है। लोग भी इसी वजह से उत्साहित थे कि इस बार यमुना के घाट पर छठ पूजा कर सकेंगे। पिछली बार कोरोना की वजह से यह संभव नहीं हो पाया था।

हर बूथ का जल्द किया जाएगा दौरा : किशोरी

lockdown in uttarakhand : लाकडाउन के कारण घर

25 और पॉजिटिव, बिहार में 450 हुई कोरोना मरीजो

सीएम त्रिवेंद्र रावत बोले तीन माह में 25 हजार

सीएम योगी ने कहा- किसानों के असली मसीहा थे चौ

नए नगर निकायों में पांच दर्जन वार्ड पार्षद

गोरखपुर में भारी पड़ सकती है लोगों की ये लापर

आजसू की बैठक में फुटबाल टूर्नामेंट की सफलता प

Coronavirus: गोरखपुर में विशेष सतर्कता, विदेश

‘हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन’ हर किसी के इस्तेमाल

ओमिक्रान वेरिएंट के लिए तैयार नहीं है स्वास्थ

रोट पंचायत के पचास परिवार चार माह से प्यासे

कोरोना वायरस अपडेट दो

चार न्यायिक पदाधिकारी समेत 16 कर्मी कोरोना पा

चुनावी मोड में केजरीवाल, कहा- दिल्ली में सातो

कोरोना से निपटने के लिये भारत के पास पर्याप्त

आनी के एमएलए को मंत्रिमंडल में शामिल करने की

क्षय रोगी खोजें, पांच सौ रुपये पाएं इनाम

चार जगहों पर 14 से शुरू होगा क्रिकेट लीग मैच

सपना चौधरी के कार्यक्रम के विरोध में आई शिवसे