आठ टीमें मिलकर कर रहीं 2800 एंबुलेंस लाभार्थियों की जांच

आठटीमेंमिलकरकररहीं2800एंबुलेंसलाभार्थियोंकीजांच

जागरणसंवाददाता,बांदा:सरकारीएंबुलेंससुविधाउपलब्धकरानेकेनामपरमरीजोंकीफर्जीसंख्याऔरकाल्पनिकपीसीआरभरकरभुगतानकरानेकामामलातूलपकड़ेहै।शासनकेनिर्देशपरजांचकरानेकेलिएब्लाकस्तरपरआठटीमेंगठितकीगईहैं।सप्ताहभरमें2800लाभार्थियोंसेमामलेकीजांचकीजानीहै।

एंबुलेंससेवाप्रदाताकंपनीसेसरकारकाकरारहैकिमरीजोंकोअस्पतालपहुंचानेकेलिएसुगमवबेहतरसाधनसमयपरउपलब्धकरायाजाए।इसकेएवजमेंशासनकीओरसेलाभार्थियोंकेहिसाबसेभुगतानभीकियाजाताहै।लेकिन,इनदिनोंएंबुलेंससेवाप्रदाताकंपनीकीओरसेमरीजोंकीफर्जीसंख्याभरकरबिनासाधनउपलब्धकराएभुगतानकरानेकामामलासुर्खियोंमेंचलरहाहै।शासननेभीजांचकरानेकेकड़ेनिर्देशजारीकिएहैं।जिसमेंहरब्लाकमेंजांचकेलिएएकटीमकागठनकियागयाहै।जिन्हेंजनवरीसेमार्चतकतीनमाहकेलाभार्थियोंसेफीडबैकलेनेकोकहागयाहै।इसमेंजनपदमेंकुल44एंबुलेंसहैं।जिसमें21एंबुलेंस102व23एंबुलेंस108कीसंचालितहोरहीहैं।वहींतीनमाहमें2800लोगोंकेएंबुलेंससेवाकालाभलेनेकेमामलेदर्जकिएगएहैं।गठितटीमेंसभीलाभार्थियोंकोफोनकरजानकारीजुटारहीहैंकिएंबुलेंससेवाकाउन्होंनेलाभलियाहैकिनहीं।

जांचकीप्रक्रियाचलरहीधीमी

एडीस्वास्थ्यनरेशसिंहकीओरसेसभीसीएमओकोसप्ताहभरकासमयदियागयाथा।जिसमेंकरीबपांचदिनबीतचुकेहैं।जबकि28सौलाभार्थियोंमेंअभीतकएकचौथाईलाभार्थियोंसेभीबातपूरीनहींहोपाईहै।जिससेसाफजाहिरहैकिजांचकीप्रक्रियाधीमीचलरहीहै।उच्चअधिकारियोंकीमंशाकेअनुसारकामनहींहोपारहाहै।ऐसेतोजांचमेंलंबासमयभीलगसकताहै।

--------------------------------------------

तीनचक्रोंमेंपूरीहोगीजांच

डीपीएमडिस्ट्रिकप्रोजेक्टमैनेजरकुशलयादवनेबतायाकिजांचकरनेमेंकिसीतरहकीकमीनहो।इसकेलिएतीनचक्रोंमेंजांचकराईजाएगी।पहलेचक्रमेंजांचअभीब्लाकस्तरपरहोरहाहै।दूसरेचक्रमेंजिलावफिरआखिरीमेंमंडलीयजांचकीप्रक्रियापूरीकीजाएगी।ब्लाकस्तरीयवजिलास्तरीयजांचकेनोडलअधिकारीसीएमओबनाएगएहैं।जिसकीमानीटरिंगभीवहकररहेहैं।जिससेजांचमेंकिसीतरहकीलापरवाहीनहोसके।

एंबुलेंसनपहुंचनेकीभीहोरहीजांच

-एंबुलेंससुविधाउपलब्धकरानेकेनामपरऐसाभीकईबारदेखनेकोमिलाहैकिएंबुलेंसगर्भवतीकोअस्पतालपहुंचानेकेबादवापसघरछोड़नेकेलिएसमयपरनहींआतीहैं।जिससेमरीजोंकोप्राइवेटसाधनोंसेवापसघरजानापड़ताहै।हालांकिसरकारीएंबुलेंसकर्मीउनकोघरपहुंचानेकामामलाभीदर्जकरलेतेहैं।जांचमेंइसबिंदुकीभीपड़तालकीजारहीहै।