अंकुरण परियोजना के क्रियान्वयन को लेकर प्रशिक्षण

जमुई।प्लसटूउच्चविद्यालयमेंशुक्रवारकोजिलाशिक्षापदाधिकारीकीअध्यक्षतामेंअंकुरणपरियोजना,पोषणवाटिकाकेविस्तारएवंक्रियान्वयनकोलेकरजिलास्तरीयप्रशिक्षकोंकाप्रशिक्षणकार्यक्रमकियागया।प्रशिक्षणकाउद्घाटनजिलाशिक्षापदाधिकारीविजयकुमारहिमांशुएवंअन्यअतिथियोंनेसंयुक्तरूपसेदीपप्रज्वलितकरकिया।

राज्यमेंछोटेबच्चोंएवंखासकरकिशोरावस्थामेंएनीमियाएकगंभीरसमस्याहै।इससेनिपटनेएवंकिशोरकिशोरियोंकेबेहतरपोषणएवंस्वास्थ्यस्तरमेंसुधारलानेकोलेकरविशेषअभियानचलायाजारहाहै।जिसकेतहतसरकारद्वारामध्याह्नभोजनयोजनाएवंयूनिसेफकेसंयुक्तप्रयाससेअंकुरणपरियोजनाकीशुरुआतकीगईहै।इसअभियानकीशुरुआतराज्यकेपूर्णियाजिलेमेंसर्वप्रथमप्रयोगकेतौरपर100विद्यालयोंमेंप्रारंभकियागयाथा।जिसकीसफलताकेबादसरकारद्वाराइसयोजनाकोराज्यकेअन्यजिलोंकेविद्यालयोंमेंभीविस्तारकियाजारहाहै।

क्याहैयोजनाकाउद्देश्य:

पोषणवाटिकाकार्यक्रमकेतहतसभीविद्यालयोंमेंन्यूनतमलागतपरसालोंभरताजीसब्जीएवंफलकीउपलब्धतासुनिश्चितकरनेकेसाथ-साथबच्चोंकोश्रमदानकेगौरवएवंउनकेमहत्वकोलेकरप्रेरितकरनाहै।इसकेलिएविद्यालयकेखालीजमीनमेंपोषणवाटिकाकानिर्माणकरायाजाएगा।पोषणवाटिकाकीशुरुआतवैसेविद्यालयमेंकियाजाएगाजिसविद्यालयमेंघेराबंदीकेसाथ-साथजलस्त्रोतकीसमुचितव्यवस्थाहो।पोषणवाटिकाकेनिर्माणकोलेकरसरकारकीओरसेआवश्यकसामग्रीकीखरीदारीकोलेकरविद्यालयविकासअनुदानसेचारहजारतककीराशिउपयोगकरनेकीअनुमतिदीगईहै।