अरूणाचल प्रदेश, भूटान और नेपाल के नजदीक सीमा गांवों का विकास कर रहा चीन

बीजिंग:चीनतिब्बतकेभारत,भूटानऔरनेपालसीमासेलगतेदूरदराज़केगांवोंमेंअवसंरचनाकेविकासकाप्रयासकररहाहै.यहजानकारीशुक्रवारकोचीनीसरकारद्वाराजारीतिब्बतपरश्वेतपत्रसेमिलीहै. ‘तिब्बत1951से:मुक्ति,विकासऔरसमृद्धि’शीर्षककेदस्तावेजमेंकहागयाहैकिसीमावर्तीक्षेत्रोंकाविकासकरनाऔरतिब्बतमेंलोगोंकेजीवनमेंसुधारकरनामहत्वपूर्णहोगयाहैक्योंकिसामरिकतौरअहमहिमालयीक्षेत्र4,000किलोमीटरलंबीबाहरीसीमासाझाकरताहै.

दस्तावेजमेंकहागयाहैकिपासकेइलाकोंकेनिवासीमुश्किलजीवनजीतेहैंऔरमुश्किलस्थितियोंमेंकामकरतेहैंऔरवहांगरीबीभीज्यादाहै.सरकारसभीस्तरोंपरसरहदीइलाकोंकाविकासकरलोगोंकेजीवनस्तरमेंसुधारकरनेकीकोशिशकररहीहै.

दस्तावेजकहताहैकिकम्युनिस्टपार्टीकेमार्गदर्शनमेंतिब्बतमेंसीमाविकासकेलिएसालदरसालआर्थिकआवंटनमेंइज़ाफाकियागयाहै.राष्ट्रपतिशीजिनपिंगके2012मेंसत्तामेंआनेकेबादसेसुरक्षापरअतिरिक्तजोरदेतेहुएनएगांवोंकीस्थापनाकरचीनकेसीमावर्तीक्षेत्रोंकेविकासकोप्राथमिकतादीगईहै.

भारत-चीनसीमाविवादमें3488किलोमीटरलंबीवास्तविकनियंत्रणरेखा(एलएसी)है.चीनअरूणाचलप्रदेशकोदक्षिणतिब्बतकाहिस्साबताकरउसपरदावाकरताहैलेकिनभारतनेदृढ़तासेउसकादावाखारिजकियाहै.चीन477किलोमीटरलंबीसीमाभूटानकेसाथसाझाकरताहैजबकिनेपालकेसाथ1389किलोमीटरकीसरहदलगतीहै.

सीमागांवोंकेविकासकोराष्ट्रपतिजिनपिंगकेउसपत्रमेंभीरेखांकितकियागयाथाजो2017मेंउन्होंनेअरूणाचलप्रदेशकेनजदीकल्हुन्जेकाउंटीकेएकतिब्बतीपरिवारकोलिखाथाऔरउनसेचीनीक्षेत्रकीसुरक्षाकेलिएअपनीजड़ेजमानेऔरअपनेगृहनगरकेविकासपरतवज्जोदेनेकोकहाथा.

चीनमेंदालीसे28किमीउत्तरपूर्वमेंभूकंपकेझटके,रिक्टरस्केलपरतीव्रता6.1मापीगई