अयोध्या के विकास को लेकर साफ था 'विजन'

फैजाबाद:भाजपाएवंअयोध्याकेबीचरिश्तेकीपहचानभलेही'राममंदिर'आंदोलनकेचलतेहोपरविकासकेनक्शेपरअयोध्याकीखासपहचानबतौरप्रधानमंत्रीअटलबिहारीवाजपेयीकीदेनहै।वेसरयूनदीपरबनेरेलपुलकेलोकार्पणकेलिएअयोध्या-फैजाबादखुदआए।यहांकेलिएयहउनकीअंतिमयात्रासाबितहुई।हवाईपट्टीकेमैदानमेंफैजाबादहीनहींआसपासकेजिलोंकेप्रशंसकोंकोरूबरूहोकरउनकाओजस्वीभाषणसुननेऔरनिकटसेदेखनेकामौकामिलाथा।बतौरप्रधानमंत्रीअटलजीनेआखिरीबारफैजाबादरेलपुलकेलोकार्पणकेसाथसभाकोसंबोधितकियातोफैजाबादकीजनताने'महानायक'कोसिरआंखोंपरबिठानेमेंकोईकसरनहींछोड़ीथी।मध्यदोपहरसभाहोनेकेबावजूदमैदानमेंएकलाखकेआसपासजमाभीड़पूरेउत्साहसेउनकेएक-एकशब्दकोआत्मसातकरनेकोआतुरथी।होभीक्योंन,शब्दोंकेजादूगरअटलजीनेप्रधानमंत्रीरहतेनकेवलरेलपुलकालोकार्पणकिया,बल्किलखनऊ-गोरखपुरराष्ट्रीयराजमार्गकेसाथअयोध्यामेंफोरलेनपुलदेकरयहांकोविकासकोनयाआयामदियाथा।यहीनहींउन्होंनेतत्कालीनकेंद्रीयपर्यटनमंत्रीजगमोहनकोयहांभेजकरपर्यटनकेनक्शेपरअयोध्याकोउभारनेकाखाकाखींचाथा।अगर2004मेंएनडीएकीसरकारवापसलौटतीतोअयोध्याकीतस्वीरकहींऔरखुशनुमाहोती।यहीकारणहैकिअबभीलोगोंकेजेहनमेंअटलजीकेकार्योंकीस्मृतियांताजाहैं।

चुनावपरिणामकोलेकरगफलतनहींरखतेथेवाजपेयी

-आमतौरपरचुनावपरिणामकोलेकरउनकानजरियासाफथा।अन्यनेताओंकीतरहवेकोईगफलतनहींपालतेथे।1996मेंभलेहीउनकीसरकार(13दिन)बनगई,लेकिनमतदानकेपहलेहीउन्होंनेसाफतौरकहदियाथाकिउन्हेंबहुमतनहींबल्किगठबंधनकीसरकारबनानीहोगी,जबकिअंबेडकरनगरमेंसभाकेदौरानपूर्वमुख्यमंत्रीकल्याण¨सहबहुमतहासिलकरनेकादावाकररहेथे।तत्समयतबइससंवाददातानेअटलजीकेबयानकीओरध्यानदिलायातोकल्याण¨सहनेउन्हेंस्पष्टवादी,दार्शनिकराजनेताबताआकलनमेंअंतरकोबयांकिया।