बच्चों का सर्वांगीण विकास शिक्षकों का दायित्व : डीएसई

सेन्हा(लोहरदगा):प्रखंडकेमध्यविद्यालयअर्रूमेंबुधवारकोसंकुलस्तरीयबालसमागम2017-18कासमापनसमारोहआयोजितकियागया।कार्यक्रमकाशुभारंभबतौरमुख्यअतिथिडीएसईरेणुकातिग्गानेदीपप्रज्जवलितकरकिया।मौकेपरडीएसईनेकहाकिबच्चोंकासर्वांगीणविकासशिक्षकोंकादायित्वहै।एकशिक्षककोविद्यार्थियोंकेलिएआदर्शहोनाचाहिए।बच्चोंकोकिताबीशिक्षाकेसाथ-साथसामाजिकऔरखेलकीशिक्षाभीजरूरीहै।अनुशासनविद्यार्थियोंकेलिएसफलताकामार्गहै।शिक्षकविद्यार्थियोंकोबताएंकिनियमितरूपसेविद्यालयआनाऔरघरमेंभीपाठ्यपुस्तककाअध्ययनजरूरीहै।विभिन्नप्रकारकीस्पर्धाओंमेंबच्चोंकोआगेलाकरउनकाआत्मविश्वासबढ़ासकतेहैं।डीएसईनेकहाकिपर्यावरणसंरक्षण,जलसंरक्षण,वायुसंरक्षणपररोकनेकोलेकरभीबच्चोंकोप्रेरितकरनेकीजरूरतहै।डीएसईनेविज्ञानप्रदर्शनीकानिरीक्षणकियातथाबच्चोंकाहौसलाबढ़ाया।विज्ञानप्रदर्शनीमेंमध्यविद्यालयअर्रू,मविमुरकीतोड़ार,मविचौकनी,मविपहाड़डांडू,मविकल्हेपाटआदिविद्यालयकेबच्चेशामिलहुए।मौकेपरमुखियापूनमबाखला,राजेंद्रखत्री,विकेशकुमारसिन्हा,वजीरअंसारी,जैनुलअंसारी,मुमताजबेगम,विनयउरांव,सुबोधकुमारवर्मा,निशीकुमारीआदिमौजूदथे।