बच्चों में प्रतिभा को तराशने की जरुरत: आनंद सिंह

संवादसूत्र,चतरा:स्थानीयइंदिरागांधीआवासीयविद्यालयमेंशुक्रवारकोप्रतिभासम्मानसमारोहएवंशिक्षकदिवसकाआयोजनकियागया।कार्यक्रमकीशुरुआतविद्यालयकेप्रधानाध्यापकआनंदकुमारसिंहनेदीपप्रज्वलितकरकिया।तत्पश्चातभारतकेप्रथमउपराष्ट्रपतिऔरद्वितीयराष्ट्रपतिडॉ.सर्वपल्लीराधाकृष्णनकेतस्वीरपरमाल्यार्पणकरकियागया।इसदौरानविद्यालयकेबच्चोंकेद्वारासांस्कृतिककार्यक्रमप्रस्तुतकियागया।बच्चोंनेएकसेएकबढ़करनृत्यगीतएवंनाटककाप्रदर्शनकिया।कार्यक्रमकोसंबोधितकरतेहुएप्राचार्यनेकहाकि

बच्चोंमेंप्रतिभाकीकोईकमीनहींहोती,सिर्फउन्हेंतराशनेकेलिएशिक्षकरूपीकारीगरकीआवश्यकताहोतीहै।उन्होंनेकहाकिशिक्षकउसकुम्हारकीभांतिहोताहैहैजोऊपरसेतोचोटकरताहैलेकिनअंदरहीअंदरउन्हेंसंवारनेकेलिएमेहनतकरतेरहतेहैं।उन्होंनेबच्चोंसेसमयकासदुपयोगकरनेकीबातकही।ताकिवेहमेशाबेहतरकरसकें।उन्होंनेकहाकिसफलताकाकोईशॉर्टकटरास्तानहींहोता।कार्यक्रममेंबेहतरकरनेवालेवर्गदशमसेंफैजाखातुन,ऋषिपाठक,काजलशर्मा,प्रियांशुवर्मा,मोनिकाकुमारी,कुमारीनिशा,सावनकुमार,रीतिककुमारकोपुरस्कृतकियागया।कार्यक्रमकोसफलबनानेमेंविद्यालयकेशिक्षकमनोजलहरी,शुभमकुमार,प्रदीप

कुमार,पूनमसिंह,सरस्वतीकुमारी,एलिजाबेथ,सपना,प्रज्ञापाठकनेअहमभूमिकानिभाई।कार्यक्रमकाधन्यवादज्ञापनविद्यालयकेवरिष्ठशिक्षकशाहनवाजआलमनेकिया।