बीते 49 साल, बजट के अभाव में इंटर कॉलेज बदहाल

बलरामपुर:वर्ष1969मेंशिवपुराबाजारकेस्वर्गीयराममिलनवैश्यनेमोहनलालरामलालइंटरकॉलेजकीस्थापनाकरजिसस्कूलकीकल्पनाकीथी,वहसाकारनहींहोसकी।49वर्षबीतजानेकेबादभीविद्यालयमेंशिक्षकोंकीकमीदूरनहींहुई।विद्यालयमेंअध्ययनरत978विद्यार्थियोंकेसापेक्षआयोगसेमात्रपांचअध्यापकोंकीतैनातीहै।बच्चोंकीपढ़ाईबाधितनहोनेपाए,इसकेलिए12अध्यापकसंविदापरलगाएगएहैं।विद्यालयभवनमरम्मतवरंगाई-पुताईकेअभावमेंबदहालहै।छतकीप्लास्टरटूटचुकीहै।साथहीचहारदीवारीकानिर्माणनहोनेसेखेलमैदानभीबदहालहोताजारहाहै।47सालबादमिलीविज्ञानकीमान्यता

विद्यालयकीस्थापनाके47वर्षबीतजानेकेबादवर्ष2016मेंविज्ञानवर्गकीमान्यतामिलसकीहै।विज्ञानप्रयोगशालाअभीव्यवस्थितनहींहै।कक्षा12कीछात्रा¨बदाश्रीवास्तवकाकहनाहैकिपेयजलकेलिएपानीटंकीवआरओकीव्यवस्थानहींहै।जिससेशुद्धपेयजलनहींमिलपाताहै।आयुषीपाठकनेबतायाकिकिनियमितपरीक्षणप्रयोगशालामेंनहींकरायाजारहाहै।लवकुशयादवनेबतायाकिकिअबतकआधाकोर्सनहींपूराहोपायाहै।जबकिअ‌र्द्धवार्षिकपरीक्षाहोनेवालीहै।जिम्मेदारकेबोल:

-प्रधानाचार्यशिवकुमारमिश्रकाकहनाहैकिहालहीमेंविज्ञानवर्गकीमान्यतामिलीहै।कक्षाछहसेआठतककेबच्चोंकोनिशुल्कशिक्षादीजारहीहै।स्कूलके27कमरोंमेंसीसीटीवीकैमरेलगेहैं।जिससेअध्यापकोंवबच्चोंकीनिगरानीकीजातीहै।बजटकाअभावहोनेसेचहारदीवारीनिर्माणवछतकीमरम्मतनहींहोसकीहै।एक्स्ट्राक्लासचलाकरकोर्सपूराकरायाजाएगा।