बिना एस्टीमेट पोल लगाने के मामले की जांच रिपोर्ट अधर में, उठे सवाल

जागरणसंवाददाता,बस्ती:बिजलीबकाएऔरबिजलीचोरीमेंतेजीसेकार्रवाईकरनेमेंमाहिरविद्युतविभागकेकदमतबठहरनेलगतेहैंजबउन्हींकेअभियंताओंकीगर्दनफंसनेलगतीहै।ताजामामलाविद्युतवितरणखंडहर्रैयाके33/11केवीविद्युतउपकेंद्रदुबौलियाकाहै।क्षेत्रमेंकरीब19खंभेकीअवैधलाइनबनानेकेमामलेकीजांचरिपोर्टछहमहीनेबादभीपेशनहींकीगई।अबइसकोलेकरविभागीयअधिकारियोंकीकार्यशैलीपरसवालउठरहेहैं।

बतायाजारहाहैकिजांचपूरीहोचुकीहैजिसमेंअवरअभियंताकोदोषीकरारदियागयाहै।हालांकिरिपोर्टजांचटीमनेदबाकररखलियाहै।रुधौलीमेंतैनातीकेदौरानभीइसीअवरअभियंतापरअवैधलाइनबनानेकाआरोपलगाथा।तबविद्युतवितरणमंडलसेइनकास्थानांतरणदुबौलियाउपकेंद्रपरकरकेमामलेकोदबादियागया।दुबौलियाकामामला,23दिसंबर2020कोतबचर्चामेंआया,जबएमएलसीदेवेंद्रप्रतापसिंहनेअवैधलाइनबनानेकीशिकायतमुख्यअभियंताविद्युतवितरणसेकरदी।शिकायतमेंकहागयाथाकिदुबौलियाकेदेशीशराबठेकासेराकेशटेंटहाउसतकपांचखंभेऔरराकेशटेंटहाउससेनहरकेसाइफनतक14खंभेकी11हजारलाइनकानिर्माणकरायागयाहै।लाइनकोचार्जभीकरदियागयाहै।बिनाएस्टीमेटकेबनाईगईलाइनकोएमएलसीनेअवैधबतायाथा।मनमानेढंगसेबनाईगईइसलाइनकीजांचकेलिएविद्युतवितरणमंडलनेतीनसदस्यीयटीमगठितकी।जिसमेंअधिशासीअभियंताविद्युतवितरणखंडतृतीयहेमंतकुमारसिंह,उपखंडअधिकारीहर्रैयाएसकेमिश्रवअवरअभियंताकलवारीप्रिसकुमारशामिलहैं।टीमनेजांचपूरीकरलीलेकिनरिपोर्टनपेशकरनेकादबावबनाकरइसेठंडेबस्तेमेंडालदियागया।अधीक्षणअभियंताविद्युतवितरणआरबीकटियारनेबतायाकिअभीतकजांचरिपोर्टनहींमिलीहै।यदिरिपोर्टमेंअवरअभियंतादोषीपाएगएतोसख्तकार्रवाईकीजाएगी।रिपोर्टजल्ददेनेकेलिएकहागयाहै।