बंद और सामाजिक दूरी कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए सबसे कारगर ‘सामाजिक दवा’: हर्षवर्धन

नयीदिल्ली,11अप्रैल(भाषा)केन्द्रीयस्वास्थ्यमंत्रीहर्षवर्धननेकहाहैकिबंदऔरसामाजिकदूरीकोरोनावायरससंक्रमणकोफैलनेसेरोकनेकेलिएफिलहालसबसेकारगर‘सामाजिकदवा’हैलेकिनभारतकीआबादीकोदेखतेहुएसंक्रमणकेमामलोंकीजांचतेजीसेबढ़ानेकीजरूरतहै।स्वास्थ्यमंत्रीनेपत्रिका‘दवीक’कोदिएसाक्षात्कारमेंयहबातकही।उन्होंनेइसबातपरभीचिंताजताईकिहोसकताहैकिभारतमेंजितनेलोगोंकीजांचकीजानीचाहिएउसकीतुलनामेंकमलोगोंकीजांचहोरहीहो।उन्होंनेकहाकिऐसेलोगोंकीजांचपहलेकीजारहीहैजिनमेंसंक्रमणकाखतराज्यादाहै।मंत्रीनेकहाकिआठअप्रैलतकभारतमें1,04,764जांख्होचुकीहैंऔरदेशमेंवर्तमानमेंप्रतिदिन20हजारनमूनोंकीजांचकरनेकीसुविधाहै।देशमेंवेंटिलेटरोंकीकमीकेमुद्देपरउन्होंनेकहाकि80प्रतिशतमामलेऐसेहैंजिनमेंसंक्रमणकमहैं,15प्रतिशतमामलेगंभीरसंक्रमणकेहैंजिनमेंऑक्सीजनकीजरूरतहैऔरकेवलपांचप्रतिशतमामलेनाजुकश्रेणीमेंआतेहैंजिन्हेंवेंटिलेटरकीजरूरतहोतीहै।स्वास्थ्यमंत्रीनेबतायाकिसंक्रमितलोगोंकेलिएफिलहाल17,000वेंटिलेटरमौजूदहैंऔरआनेवालेहफ्तोंमें48,538वेंटिलेटरखरीदेजाएंगे।निजीसुरक्षाउपकरण(पीपीई)कीउपलब्धतापरहर्षवर्धननेकहाकिदुनियाभरमेंइसकीसमस्याहैऔरभारतमेंभीइसकीदिक्कतहैक्योंकिस्थानीयस्तरपरइसकानिर्माणनहींहोताहै।उन्होंनेकहाकिकुल1.57करोड़पीपीईकीखरीदकीजारहीहै।कोरोनावायरसकेसंक्रमणकेरूझानकेबारेमेंहर्षवर्धननेकहाकि80प्रतिशतसेज्यादामामले17राज्योंमें71जिलोंसेआएहैं।उन्होंनेकहाकिसबलोगोंपरनिर्भरकरताहैकिवेकितनीकड़ाईसेनियमोंकापालनकरतेहैं।उन्होंनेआगाहकियाकिकिसीभीतरहकीलापरवाहीसारेप्रयासोंकोनिष्फलकरदेगी।हर्षवर्धननेकहा,‘‘हालांकिभारतसमेतविश्वकोविड-19केलिएटीकाविकसितकरनेमेंजुटाहै।लेकिनमेरामाननाहैकिबंदऔरसामाजिकदूरीकोरोनावायरससंक्रमणकोफैलनेसेरोकनेकेलिएफिलहालसबसेकारगर‘सामाजिकदवा’है।’’भारतमें24मार्चकीमध्यरात्रिसे21दिनकालॉकडाउनलागूहै।ऐसेसंकेतहैंकिकेंद्रसरकारकुछसंभावितढीलकेसाथलॉकडाउनको14अप्रैलसेआगेबढ़ासकतीहै।उन्होंनेकहाकिमहामारीसेपारपानेकीलड़ाईमेंआनेवालेकुछदिनभारतकेलिएबेहदनाजुकहैं।केन्द्रीयमंत्रीनेकोविड-19संक्रमणकीजांचबढ़ानेकेसरकारकेप्रयासोंकोविस्तारसेबतायाऔरकहाकिभारतकीआबादीकोदेखतेहुएजांचबढ़ाएजानेकीजरूरतहै।हर्षवर्धननेकहा,‘‘फिलहालदेशभरमेंअस्पतालोंकेपासकरीबचारलाखपीपीईहैं।हमनेअगलेसप्ताहकेअंततकएकसप्ताहमेंइसे10लाखकरनेकालक्ष्यरखाहै।’’फिलहाल,136सरकारीप्रयोगशालाएंऔरएनएबीएल(राष्ट्रीयपरीक्षणऔरअंशशोधनप्रयोगशालाप्रत्यायनबोर्ड)मान्यतावाली59निजीप्रयोगशालाएंजांचकेकाममेंलगीहैं।