दिखावटी शौचालय तक सीमित बुनियादी सुविधा

जागरणसंवाददाता,एटा:स्कूलमेंबच्चोंकेलिएव्यवस्थाएंतोकीगईंथीं,लेकिनसमयगुजरनेकेसाथनतोउन्हेंव्यवस्थितरखनेकेउपायकिएगएऔरनाहीबच्चोंकेलिएशौचालयजैसेसंसाधनोंकीजरुरतअबभीसमझीजारहीहै।अलीगंजकेप्राथमिकविद्यालयविजैदेपुरमेंशौचालयहालइसीतरहकाहै।

इसविद्यालयमेंवैसेतोदोशौचालयऔरबच्चोंकेलिएमूत्रालयभीबनाहुआहै।हालांकिसंसाधनदससालसेभीज्यादापुरानाहै,ऐसीस्थितिमेंमरम्मतआदिकार्योंजैसीव्यवस्थाएंअनवरतरूपसेनकिएजानेकेकारणउनकीस्थितिखराबहै।शौचालयोंकीहकीकतछुपानेकेलिएउनपरतालाजड़दियागयाहै।दोनोंहीशौचालयबंदरहतेहैंऔरबच्चोंकेलिएमूत्रालयखुलाहै,लेकिनकाफीअव्यवस्थितहै।प्राइमरीविद्यालयमेंजितनीलंबाईकेबच्चेहैंमूत्रालयमेंलगेपॉटउनसेभीज्यादाऊंचेहैं।ऐसेमेंअधिकांशबच्चेपरेशानीमहसूसकरतेहुएमूत्रालयकाभीप्रयोगकरपानेमेंसफलनहींहैं।यहीवजहहैकिबच्चोंकोस्कूलछोड़करबाहरखेतोंमेंशौचालयऔरमूत्रालयजैसेसंसाधनोंकेलिएदौड़लगानीहोतीहै।

हालांकिशौचालयोंकेबाहरकीपुताईबेहतरहै,लेकिनअंदरकाहालखस्ताहै।खासबाततोयहहैकिजहांशौचालयबनेहुएहैंवहांपानीतककीव्यवस्थानहींहै।बच्चोंकोदूरहैडपंपतकपहुंचनाहोताहै।विद्यालयकेप्रधानाध्यापकब्रजलालमिश्राकाकहनाथाकिशौचालयकाफीपुरानेहैं,मरम्मतकाकार्यतोकरायागयाहै,लेकिनबदलेदौरमेंबेहतरशौचालयकेलिएबजटनमिलनेकेकारणइन्हींव्यवस्थाओंपरनिर्भररहनापड़रहाहै।प्रयासतोयहीरहताहैकिबच्चेबाहरनजाएं,लेकिनबच्चोंकोबाहरजानेकाशौकज्यादाहोताहै।भविष्यमेंबजटमिलातोसुधारकेप्रयासकिएजाएंगे।

यहबोलेअभिभावक

-गुरुप्रसादकाकहनाथाकिबच्चेविद्यालयसेबहुतकुछसीखतेहैं।वहींशौचालयकेप्रबंधअच्छेनहींहैंतोघरपरभीउनकीआदतेंउसीतरहकीबनीहुईंहैं।

-प्रेमपालकहतेहैंकिशिक्षकअपनीजिम्मेदारियोंसेबचकरशौचालयोंमेंतालालगादेतेहैं,यहगलतहै।व्यवस्थाएंसुधारकरबच्चोंकोसुविधामिलनीचाहिए।