एनटीपीसी के विकास में सिगरौली विद्युत गृह का विशेष योगदान

जागरणसंवाददाता,अनपरा/शक्तिनगर(सोनभद्र):एनटीपीसीसिगरौलीविद्युतगृहनेअपनीविकासयात्रामेंकाफीविस्तारकरतेहुएअनेककीर्तिमानहासिलकिएहैं।13फरवरी1982कोस्थापित200मेगावाटकीसबसेपुरानीयूनिटनंबरएक100.38फीसदीपीएलएफपरउत्पादनकररहीहै।जोपूरेदेशकाउच्चतमपीएलएफहै।उक्तबातेंएनटीपीसीसिगरौलीकेमुख्यमहाप्रबंधकदेवाशीषचट्टोपाध्यायनेशुक्रवारकोआयोजितप्रेसवार्तामेंकहीं।कहाकिपूरेदेशमेंएनटीपीसीकीकुलविद्युतउत्पादनकीक्षमता64880मेगावाटहै।इसीमाहविद्युतगृहकोग्रीनटेकअवार्ड,कार्पोरेटफिल्मकोपीआरसीआइअवार्डसेसम्मानितकियागयाहै।एनटीपीसीकेविकासमेंसिगरौलीविद्युतगृहकामहत्वपूर्णयोगदानहै।वित्तीयवर्षमेंयूनिटएक,चारऔरपांचकालोडिगफैक्टर100फीसदीसेज्यादारहा।पर्यावरणसंरक्षणकीदिशामेंवर्ष2022तकएफजीडीलगानेकासार्थकप्रयासकिएजारहेहैं।एफजेडीलगजानेसेसल्फरकेउत्सर्जनपरप्रभावीअंकुशलगनेकेसाथपर्यावरणऔरबेहतरहोगा।विद्युतगृहमेंराखउपयोगकाप्रतिशतबढ़ाहै।सीमेंटउद्योगोंकेअलावाराष्ट्रीएराज्यमार्गनिर्माणमेंनि:शुल्कराखकीआपूर्तिकीजारहीहै।फोरलेननिर्माणकेसंदर्भमेंसीजीएमनेकहाकिपीडब्ल्यूडीकोकाफीभूमिदीजाचुकीहैअबऔरभूमिदेनासंभवनहींहै।राखढुलाईकीवजहसेउड़रहेधूलपरमहाप्रबंधक(एडीएम)गोपालकृष्णन्ननेकहाकिनिकासीकेदौरानकाफीसतर्कताबरतीजातीहै।वार्तामेंसीएसश्रीनिवास,सोमनाथचट्टोपाध्याय,डा.एसकेखरे,केगोपालकृष्णन्न,वी.शिवाप्रसादउपस्थितरहे।