जीवन में शिथिलता एक शाप, शिक्षार्जन से ही मुक्ति संभव

समस्तीपुर।जीवनमेशिथिलताएकशापहै,जिससेमुक्तिकामार्गशिक्षार्जनसेहींसंभवहै।उक्तबातेंराजकीयउत्क्रमितमध्यविद्यालयवारिसनगरबाजारकेसेवानिवृत्तप्रधानाध्यापकपरवेजअहमदनेअपनेविदाईसहसम्मानसमारोहकोसंबोधितकरतेहुएभावुकलहजेमेंकही।समारोहकीअध्यक्षतास्थानीयमुखियारामदयालरायनेकी।संचालनउमविडरसुरकेप्रधानाध्यापकपवनकुमारसाफीनेकिया।इससेपूर्वसमारोहकीशुरुआतविद्यालयपरिवारकीओरसेश्रीपरवेजकोपागचादरवमालासेस्वागतऔरविद्यालयकीछात्राभावना,अंजलि,स्नेहाआदिकेद्वाराविदाईगीतगाकरकियागया।वहींबीईओसुनीलकुमारवर्मानेशिक्षकीयजीवनकीमहत्ताकोबताया।आदर्शमध्यविद्यालयवारिसनगरकेप्रधानाध्यापकप्रणवचौधरीनेश्रीअहमदकेकार्यकालकीभूमिकाकोगंगाकीतरहबतातेहुएकहाकिइनकास्थानिकसौंदर्यताअपनेउत्तमचरित्रसेप्रतिभाषितकियाजाताहै।शिक्षकरामनाथकुमारनेकहाकिजीवनमेशैक्षिकअनिवार्यताऔरप्रतिनिधिकसहयोगकोसम्मानसेजोड़करएकनवीनधाराकासंचरणकिया।समारोहकोसेवानिवृत्तशिक्षकअंजुमवारिस,महेंद्रप्रसाद,इफ्तेखारअहमद,ब्रजनंदनराम,सहितबीआरपीचन्द्रभूषणठाकुर,संजयरजक,मो.सरफराजअहमद,छोटेलालपासवान,इम्तियाजअहमदरुही,राकेशकुमारसाफी,मोहनबैठा,अवधेशकुमार,सुनीलकुमार,दिनेशकुमार,शबानाशकील,पार्वतीकुमारी,आशाकुमारी,मोनिकाकुमारीसहितदर्जनोंशिक्षकशिक्षिकाओंनेसंबोधितकरतेहुएउनकेमंगलमयजीवनकीकामनाकी।