जम्मू-कश्मीर में DDC चुनाव की तैयारी, प्रदेश को मिलेगा नया नेतृत्व

जम्मू-कश्मीरमेंपंचायतीराजकीजड़ें मजबूतकरनेकेलिएकवायदशुरूकरदीगईहै.इसकेतहतराज्यमेंपहलीबारजिलाविकासपरिषद(DistrictDevelopmentCouncil)केचुनावकरवाएजारहेहैं.पिछलेसाल5अगस्तकोअनुच्छेद370हटानेकेबादयेपहलीबड़ीराजनीतिकगतिविधिहोनेजारहीहै.

इसराजनीतिकप्रक्रियामेंजम्मू-कश्मीरकेराजनीतिकदलशिरकतकरेंगेयानहींयेअबतकसाफनहींहोपायाहै,लेकिनसरकारनेअपनीतरफसेइसकेलिएकोशिशेंशुरूकरदीहैं.भारतसरकारअब73वेंसंविधानसंशोधनकेसभीप्रावधानोंकोकेंद्रशासितप्रदेशजम्मूकश्मीरमेंलागूकररहीहै.जोराज्यमें28सालसेलटकाहुआहै.

इसकेसाथहीराज्यमेंत्रिस्तरीयपंचायतीराजपूर्णरूपसेलागूहोगा.येजम्मूकश्मीरकेइतिहासमेंपहलीबारहोगा.

जिलाविकासपरिषद(डीडीसी)कीस्थापनाकेलिएकेंद्रनेहरजिलेमें14पदसृजितकिएहैं.इनसभीपदोंकोप्रत्यक्षनिर्वाचनकेजरिएभराजाएगा.केंद्रकोउम्मीदहैकिइससेराज्यमेंनेतृत्वकाएकनयावर्गतैयारहोगा,जिसकाभारतकेसंविधानमेंविश्वासहोगा.येनयानेतृत्वराज्यकीविकासकीआकांक्षाओंकोपूराकरेगा.

डीडीसीकोप्रभावीऔरअसरकारकबनानेकेलिएजिलाविकासपरिषदकेचेयरमैनकोराज्यमंत्रीकादर्जादेनेकाफैसलाकियागयाहै.

हरडीडीसीकाउंसिलमेंपांचस्थायीसमितियांबनाईगईहैं.येसमितियां,वित्त,विकास,लोकनिर्माण,स्वास्थ्यशिक्षाऔरकल्याणकेमुद्देपरहोंगी.येडीडीसीकीजिम्मेदारीहोगीकिवोअपनेइलाकेकेविकासकीरूपरेखाबनाएंऔरवहांकात्वरितविकासकंरेऔरआर्थिकसमृद्धिकारास्तासाफकरें.

हालांकिजम्मू-कश्मीरकेराजनीतिकदलइनचुनावोंकोशककीनिगाहसेदेखरहेहैं.उनकामाननाहैकिडीडीसीकोज्यादाशक्तिदेनेसेचुनावकेबादविधायकोंकीशक्तिकमजोरहोगी.इससेचुनीहुईविधायिकाकमजोरऔरशक्तिहीनहोजाएगी.

पीडीपीनेतावाहिदनेकहाकिपार्टीअध्यक्षमहबूबामुफ्तीनेयुवानेताओंसेमुलाकातकीहैऔरउनसेयुवानेताओंनेअपीलकीहैकिनौजवानोंकोडीडीसीचुनावलड़नाचाहिए.उन्होंनेकहाहैकिइसबाबतअभीतकपार्टीनेकोईफैसलानहींलियाहै.उन्होंनेकहाकिचूंकिपीडीपीगुपकारघोषणाकाहिस्साहैइसलिएइसपरमिलजुलकरफैसलालियाजाएगा.वहींसज्जादलोननेकहाहैकिइसबारेमेंदूसरीपार्टियोंसेकोईबातचीतनहींहुईहै.

अपनीपार्टकेनेताअल्ताफबुखारीनेकहाकियदिडीडीसीविकासकेकामकरतीहैतबतोअच्छाहै,लेकिनराज्यकेबाबूऐसानहींचाहतेहैं,उन्होंनेकहाकिराज्यकेसरकारीअधिकारीपंचायतीराजकोफलने-फूलनेनहींदेरहेहैं.इसकीवजहसेब्लॉकडेवलपमेंटकाउंसिलसिर्फदिखावेकारहगयाहै.उन्होंनेकहाकिअपनीपार्टी10जिलोंमें140सीटोंपरचुनावलड़ेगी.

वहींपीडीपीकेएकपूर्वनेतानेकहाकियदिपीडीपीऔरनेशनलकॉन्फ्रेंसचुनावनहींलड़तेहैंतोवेप्रॉक्सीकैंडिडेटखड़ाकरेंगे.

वहींजम्मू-कश्मीरकेघटनाक्रमपरनजररखनेवालेएकविश्लेषकनेकहाकिडीडीसीमेंचुनावजीतनेवालेलोगआखिरकारविधानसभाचुनावमेंशिरकतकरेंगे.इससेएकनईजेनरेशनविधानसभामेंविधायकोंकेरूपमेंआएगी.सुरक्षामहकमेंसेजुड़ेएकवरिष्ठअधिकारीनेकहाकिकेंद्रकीयेकोशिशएकगेमचेंजरसाबितहोसकतीहैऔरनेतृत्वकीएकनईपौधतैयारकरसकतीहै,इनमेंसेअगरकोईपरिश्रमीऔरकाबिलहुएतोवेकलकोजम्मू-कश्मीरकाबड़ानेताबनसकतेहैं.

सरकारकेइसफैसलेनेजम्मू-कश्मीरकेराजनीतिकदलोंकेसामनेपसोपेशकीस्थितिपैदाकरदीहै.अगरवेचुनावलड़तेहैंतोघाटीमेंइससेसंदेशजाएगाकिवेअनुच्छेद370हटानेकाविरोधकरनेकीहालतमेंनहींहैं.औरअगरवेचुनावनहींलड़तेहैंतोबीजेपीकेलिएमैदानखालीरहेगा.