जर्जर भवन में पढ़ने को विवश हैं बच्चे

सूबेकीसरकारशहरीवग्रामीणइलाकेमेंशिक्षाकोबेहतरबनानेकेलिएप्रयत्नशीलहै।इसकेलिएप्रतिवर्षकरोड़ोंरूपयेपानीकीतरहबहाएजारहेहैं।लेकिनअधिकारियोंवजनप्रतिनिधियोंकीउदासीनताकेकारणयोजनासहीतरीकेसेधरातलपरउतरनहींपारहीहै।विद्यालयमेंशिक्षकहैंतोछात्रनहीं।छात्रहैंतोशिक्षकनहीं।भवनहैतोशिक्षकवछात्रनहींहैं।शिक्षकवछात्रदोनोंहैंतोभवननहीं।इसपरिस्थितिमेंबच्चोंकोगुणवत्तापूर्णशिक्षाकैसेमिलपाएगी,यहबड़ासवालबनाहुआहै।आजभीदोकमरेमेंविद्यालयकासंचालनहोरहाहै।वहभवनभीजर्जरअवस्थामेंहै,जोकभीभीबड़ेहादसेकागवाहबनसकताहै।यहहालनारदीगंजप्रखंडकेप्राथमिकविद्यालयतिलकचककाहै।यहविद्यालयननौरापंचायतमेंहै।इसविद्यालयमेंतीनकमरेवएकबरामदाहै।दोकमरेमेंकक्षाकासंचालनहोताहै।वहींतीसरेकमरेकाउपयोगकार्यालयकेलिएहोताहै।वहींपरकिचेनशेडबनाकरबच्चोंकेलिएमिडडेमीलभोजनबनायाजाताहै।विद्यालयकापूराभवनजर्जरहोचुकाहै।भवनजहांपुरानाऔरजर्जरअवस्थामेंहै।जर्जरभवनमेंविद्यालयसंचालितहानेकेकारणबच्चेसहमेहुएशिक्षापारहेहैं।भवनकीस्थितिकाफीबदतरहै।इसविद्यालयमेंशौचालयभीनहींहै।ऐसेस्थितिमेंविद्यालयमेकार्यरतशिक्षकवछात्रवछात्राएंकोखुलेमेंशौचकरनेकोविवशहैं।पेयजलकीभीस्थितिकाफीगंभीरबनीहुईहै।विद्यालयमेंचापाकलहै,लेकिनउससेदूषितजलनिकलताहै।स्थितियहहैकिदोकमरेवबरामदापरबच्चोंकीशिक्षादीजारहीहै।छात्रोंकोखेलनेकेलिएमैदानभीनहींहै,जहांबच्चेअपनीप्रतिभाकोनिखारसकें।

151छात्र-छात्राएंहैंनामांकित

-कक्षाप्रथमसेपंचमतकनामांकितछात्रोंकीसंख्या151है।वर्गएकमें43,दोमे24,तीनमें29,चारमें28वपंचममें27छात्रनामांकितहैं।इसविद्यालयमेपांचशिक्षककार्यरतहै।प्रधानशिक्षकइंदुभारती,सहायकशिक्षकमो.जावेदअकरम,शैलेन्द्रकुमार,चांदनीकुमारीवमोनीकुमारीयहांपदस्थापितहैं।विभागीयअधिकारीकोध्यानआकृष्टकरानेकेबादभीस्थितिजसकीतसबनीहुईहै।

क्याकहतेहैस्कूलीबच्चे

-विद्यालयकाभवनजर्जरहै।जिसकेचलतेपढ़नेमेकाफीडरलगताहै।इसविद्यालयकानयाभवनबनजातातोबेहतरहोता।शौचालयभीनहींहै।

प्रियंकाकुमारी,छात्रा।फोटो-20

-स्कूलमेंपेयजलकीस्थितिठीकनहींहै।चापाकलसेदूषितजलनिकलताहै।हमलोगोंकोपानीपीनेमेंदिक्कतेंहोतीहैं।शुद्धपेयजलउपलब्धकरानेकीजरुरतहै।

नेहाकुमारी,छात्रा।फोटो-19

-विद्यालयकाजर्जरभवनहोनेकेचलतेहादसेकीआशंकारहतीहै।खेलनेकेलिएमैदानभीनहींहै।शौचालयकेअभावमेखेतमेंशौचकरनेकेलिएजातेहैं।

अखिलेशकुमार,छात्र।फोटो-17

-कोईभीइसभवनकोबनानेपरध्याननहींदेरहेहैं।डरकेमाहौलमेंस्कूलमेंशिक्षाग्रहणकरतेहैं।विभागकोहमबच्चोंकीसुविधाकाख्यालरखनाचाहिए।

मुकेशकुमार,छात्र।फोटो-18

-विद्यालयकाभवनजर्जरअवस्थामेंहै।आयेदिनभवनकाप्लास्टरझड़करगिरताहै।जिससेकभीबडाहादसाहोसकताहै।

मो.जावेदअकरम,शिक्षक।फोटो-21

-इसविद्यालयमेंशौचालयकीव्यवस्थानहींहै।जिसकेचलतेकाफीपरेशानीउठानीपड़तीहै।जिलाप्रशासनइसपरध्यानदे।

चांदनीकुमारी,शिक्षक।फोटो-23

-शौचालयकीव्यवस्थानहींहै।चापाकलसेभीदूषितजलनिकलताहै।लिहाजाहमेंकाफीकठिनाईकासामनाकरनापड़ताहै।

मोनीकुमारी,शिक्षक।फोटो-22

-विद्यालयकीस्थितिकेबारेमेंविभागीयअधिकारीकोअवगतकरायागयाहै।लेकिनस्थितिजसकीतसबनीहुईहै।

इन्दुभारती,प्रधानशिक्षक।

क्याकहतेहैंअधिकारी

-विद्यालयकीस्थितिकाअवलोकनकियागयाहै।वरीयअधिकारीकोभीइससेअवगतकरायागयाहै।भवनकीसमस्यादूरकरनेकेलिएवैकल्पिकव्यवस्थाकीजाएगी।

राजेन्द्रठाकुर,बीईओ।