जर्जर विद्यालय भवन, खुले में पढ़ रहे बच्चे

संवादसूत्र,आटा:प्रदेशसरकारशिक्षाकेलिएकरोड़ोंकाबजटदेतीहै।शिक्षाकीगुणवत्तामेंसुधारकेसाथहीस्कूलोंमेंसभीव्यवस्थाएंसुलभकरनेकादावाहै।मकसदबच्चेबेहतरवातावरणमेंशिक्षाग्रहणकरसकेंलेकिनतमामखामियोंकेचलतेसभीसुविधाएंबच्चोंकोनहींमिलपारहीहैं।ग्रामअकोढ़ीकेप्राथमिकविद्यालयकेकमरेकीछतजर्जरहोकरगिरनेलगीहैजिससेबच्चेखुलेमेंपढ़ाईकरनेकोमजबूरहैं।

जिलेमेंहीतीनसैकड़ासेअधिकस्कूलभवनजर्जरहालतमेंहैं।नतीजतननौनिहालोंकोखतरेकेबीचमेंपढ़नेकोमजबूरहोनापड़रहाहै।कईस्कूलतोऐसेहैंजहांबच्चेतोदूरअध्यापकभीकमरोंमेंबैठकरपढ़ानेसेकतरातेहैं।भलेहीपरिसरमेंलगेपेड़ोंकेनीचेक्योंनबैठनापड़े।अकोढ़ीकेप्राथमिकविद्यालयभवनकेकमरेजर्जरहोकरउनका¨लटरटूटनेलगाहैजिससेकभीभीबड़ाहादसाहोसकताहै।इसकारणबच्चेखुलेआसमानकेनीचेबैठकरपढ़ाईकरतेहैं।सबसेअधिकपरेशानीबारिशकेमौसममेंहोतीहै।विद्यालयमेंपंजीकृत75बच्चेभयकेबीचपढ़नेकोमजबूरहैं।

बोलेप्रधानाचार्य

प्रधानाध्यापकउमेशचंद्रकाकहनाहैकिजर्जरछतकेबारेमेंअधिकारियोंकोलिखितसूचनादेदीहै।जेईनेइसकानिरीक्षणभीकरलियाहै।

जिम्मेदारबोले

खंडशिक्षाअधिकारीसर्वेशकुमारनेबतायाकिस्कूलकीमरम्मतकेलिएस्टीमेटपासहोगयाहै।कामजल्दकीशुरूकरादियाजाएगा।