केंद्रीय विद्यालय में बच्चों को मिलती है एक समान शिक्षा : प्राचार्य

सासाराम:केंद्रीयविद्यालयसंगठन57वांस्थापनादिवसमंगलवारकोमनायागया।इसअवसरपरस्थानीयकेंद्रीयविद्यालयमेंछात्रोंद्वारारंगारंगकार्यक्रमभीप्रस्तुतकियागया।उदघाटनप्राचार्यनंदलालपासवानवअन्यशिक्षकोंनेसंयुक्तरूपसेदीपप्रज्जवलितकरकिया।अंशिका,श्यामा,अनुष्का,सृष्टि,प्रिसेसउमंगअनमोल,अनामिका,नित्या,सालोनी,श्रद्धा,आरशी,पूजा,शोभापटेल,अपूर्व,श्यामदुबे,सौरभ,सान्या,ध्रुवीसिंहसमेतअन्यछात्र-छात्राओंनेसांस्कृतिकप्रस्तुतकरअपनीप्रतिभाकाप्रदर्शनकिया।

छात्रोंकोसंबोधितकरतेहुएप्राचार्यनेकहाकि15दिसंबरकेंद्रीयविद्यालयकेलिएसुनहरादिनहै।आजहीकेदिन1963मेंसेंट्रलस्कूलकेनामसेइसकीस्थापनाहुईथी।दोवर्षकेबादइसेकेंद्रीयविद्यालयनामदियागया।दहाईसेशुरूयहशिक्षणसंस्थानआज1244तकपहुंचगईहै।यहीएकऐसाशिक्षणसंस्थानहैजहांसभीकेबच्चोंकोएकसमानशिक्षामिलतीहै।बहुतकमसमयवसीमितसाधनवसंसाधनमेंकेविसासारामबच्चोंकेबेहतरप्रदर्शनकेबदौलतउपलब्धियांहासिलकरनेमेंआगेरहाहै।बच्चेजिलासेराष्ट्रस्तरतकआयोजितहोनेवालीविभिन्नप्रतियोगिताओंमेंभागलेमेडलजीतविद्यालयकानामरोशनकियाहै।यहांतककिकोरोनामहामारीजैसीवैश्विकआपदाकेवक्तभीयहांकेबच्चेऑनलाइनशिक्षणकार्यमेंशामिलहोअच्छेकररहेहैं।इसमौकेपरविपिनविहारीपाठक,एनजेराम,एलडीसिंह,प्रदीपप्रसाद,मार्कण्डेयपांडेय,एकेअंजाना,शशिकांततिवारी,चंद्रप्रकाश,पुष्पेंद्रशर्मा,श्यामलाल,नवनीत,अश्विनी,लोकेश,डॉ.बृजेश,सुनीता,महिमाश्रीवास्तव,वंदना,नीलम,शिल्पा,पूजा,गीतांजलि,दीपिकासमेतअन्यउपस्थितथे।