कुपोषण दूर करने को नहीं हो रहें प्रयास

श्रावस्ती:कुपोषणखत्मकरनेकेलिएलाखप्रयासकिएगए,लेकिनइससेसंबंधितयोजनाएंजमींदोजहोचुकीहैं।इसकीजिम्मेदारीसंभालनेवालाविभागबालविकासएवंपुष्टाहारभ्रष्टाचारकीजदमेंहै,जबकिश्रावस्तीजिलाकुपोषणकेमामलेपरपिछलेपायदानपरखड़ाहुआ,जबकिजिम्मेदारलोगउदासीनबनेहुएहैं।गिलौलाविकासखंडकेआंकड़ेबतारहेहैंकि0सेपांचवर्षतकके30917बच्चेहैं,जिनमें4356बच्चेअतिकुपोषितऔर6083बच्चेकुपोषितकीश्रेणीमेंहैं।इनबच्चोंकेपोषणकीजिम्मेदारीबालविकासएवंपुष्टाहारकोसौंपीगईहै।जिसकीमानीट¨रगभीबराबरकीजारहीहै,लेकिनयहसबमहमकागजोंतकसिमटकररहगयाहै।आंगनबाड़ीकेंद्रोंपरपहुंचनेवालापोषाहारभ्रष्टाचारकीभेंटचढ़चुकाहै।अहिराघासीनिवासीजहीरहसननेसीडीपीओगिलौलाकोअपनेयहांफरवरीमाहसेपोषाहारनवितरणकिएजानेकीशिकायतकीतोउन्होंनेयहकहकरटालदियाकिआगेसेमिलेगा।इससंबंधमेंसीडीपीओमुकेशसचानसेबातकीगईतोउन्होंनेबतायाकिविभागकेतरफसेकममात्रामेंपोषाहारआरहाहै।पहलेचारहजारबोरियांरहतीथी।अबकिसीमाहमें1400तोकिसीमाहमें1700बोरीहीआरहीहैं।