मां ही बच्चों की प्रथम गुरू : ममता

संवादसूत्र,लातेहार:सरस्वतीविद्यामंदिरलातेहारकेप्रांगणमेंशुक्रवारकोमातृसम्मेलनकाआयोजनकियागया।कार्यक्रमकीशुरुआतमुख्यअतिथिनगरपंचायतअध्यक्षसीतामणितिर्कीऔरआरएसएसकेजिलासंघचालकराजमणिप्रसादकेद्वारादीपप्रज्वलनऔरपुष्पार्चनसेकीगई।

प्रधानाचार्यकेअतिथिपरिचयकेपश्चातविद्यालयकेभैयाबहनोंद्वारारंगमंच,नाटक,गीत-संगीत,कव्वाली,मांसेसंबंधितनाटकप्रस्तुतकियागया।जिससेउपस्थितसभीअभिभावक(करीब400)भावविभोरहोगए।मांकेबारेमेंममतात्रिपाठीनेबतायाकिबच्चोंकीप्रथमगुरुमांहोतीहैऔरघरपाठशालाहोताहै।विभिन्नअभिभावकोंनेइसकार्यक्रममेंअपनेअपनेअनुभवोंवभैयाबहनोंकेलिएविद्यालयकीउपयोगिताकेबारेमेंबतायाप्रधानाचार्यवरुणकुमारचौधरीजीनेबतायाकिसभीभैयाबहनोंमेंअपनीअपनीअलगयोग्यताहोतीहै,जोऐसेकार्यक्रमोंकेमाध्यमसेवेअपनीयोग्यतादिखापातेहैं।अभिभावकोंमेंभीखुशीहोतीहैकिउनकेबच्चेसंस्कारयुक्तशिक्षाकेसाथ-साथशिक्षाकेअन्यपहलूकोभीसीखपातेहैं।विद्यालयकीसचिवज्योतिचौधरीनेबच्चोंकेद्वाराप्रस्तुतकिएगएकार्यक्रमोंकीसराहनाकीएवंसभीआचार्यएवंअभिभावकमौजूदथे।