नरेंद्र मोदी: पूर्वोत्तर को दक्षिण पूर्व एशिया का द्वार बनाया जाएगा

पलटाना,1दिसम्बर|प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीनेसोमवारकोकहाकिपूर्वोत्तरराज्योंकोदक्षिणपूर्वएशियाकेद्वारकेरूपमेंविकासकियाजाएगा। प्रधानमंत्रीनेराष्ट्रीयझंडेकेचाररंगोंकाउल्लेखकरतेहुएकहाकिदेशमेंचारक्रांतिशुरूकीजाएगी,जिसमेंकृषिकेलिएदूसरीहरितक्रांतिभीशामिलहोगी,जिसमेंपूर्वोत्तरभारतमेंजैविकखेतीपरविशेषजोरदियाजाएगा। मोदीनेकहा,“श्वेतक्रांतिदूधऔरपशुपालनकेलिए,केसरियाक्रांतिऊर्जाविकासऔरनवीकरणीयऊर्जाविकासकेलिएऔरनीलक्रांतिमत्स्यऔरमरीनविकासकेलिए।”

मोदीनेयहांएकबिजलीउत्पादनसंयंत्रकीदूसरीइकाईदेशकोसमर्पितकरतेहुएकहा,“देशमेंचौमुखीक्रांतिशुरूहोगीऔरपूर्वोत्तरउसकाअगुआबनेगा।” उन्होंनेकहा,“पूर्वोत्तरऔरम्यांमारतथाअसपासकेक्षेत्रकाउपयोगकरतेहुएएकआर्थिकगलियारेकाविकासकियाजाएगा।पूर्वोत्तरभविष्यमेंदक्षिणपूर्वएशियामेंपहुंचनेकाद्वारहोगा।” उन्होंनेकहा,“हमऊर्जाक्षेत्रकेमाध्यमसेविकासचाहतेहैंऔरइसक्षेत्रसेपूर्वोत्तरकीबेरोजगारीकीसमस्यादूरहोजाएगी।जापानऔरजर्मनीनेविभिन्नमाध्यमोंसेपूर्वोत्तरकोमददकरनेकावादाकियाहै।”

मोदीनेकहाकिपूर्वोत्तरअबपिछड़ानहींरहेगा। उन्होंनेबतायाकिसरकारनेम्यांमारकेसाथएकआर्थिकगलियाराखोलनेकेलिएजापानकेसाथएकसमझौताकियाहै। उन्होंनेकहा,“भारतकोसहयोगदेनेकेलिएमैंबांग्लादेशकोधन्यवाददेताहूं।”उन्होंनेसाथहीकहाकियदिबांग्लादेशभारतसेबिजलीखरीदनाचाहताहै,तोभारतइसकेलिएतैयारहै। उन्होंनेपूर्वोत्तरकेसभीमुख्यमंत्रियोंसेविकासकेलिएएक-दूसरेकोसहयोगकरनेकाअनुरोधकिया।

उन्होंनेकहा,“पूवरेत्तरमेंपर्यटनकीइतनीबड़ीसंभावनाहै,जितनीदेशमेंकहींऔरनहींहै।” प्रधानमंत्रीनेकहा,“10हजारकरोड़रुपयेकीपलटानाबिजलीपरियोजनाकेंद्रसरकारकीपूर्वोत्तरकेबिजलीक्षेत्रमेंसबसेबड़ानिवेशहै।यहएकपर्यावरणअनुकूलपरियोजनाभीहैऔरइसकेमाध्यमसेत्रिपुरानेपर्यावरणसंरक्षणमेंदुनियामेंअपनेलिएएकस्थानबनालियाहै।” उन्होंनेकहाकिसरकारने‘पूर्वकीओरदेखोकीनीति’कोबदलकर‘पूर्वकीओरकामकरोकीनीति’बनाईहै।

इसअवसरपरमौजूदबांग्लादेशकीप्रधानमंत्रीकेऊर्जासलाहकारतौफीक-ए-इलाहीचौधरीनेकहाकिआपसीसहयोगसेभारतऔरबांग्लादेशदोनोंकाविकासहोगा। त्रिपुराकेमुख्यमंत्रीमाणिकसरकारनेकहाकित्रिपुरामेंप्राकृतिकगैसकाविशालभंडारमौजूदहै,जिसकागत40वर्षोसेदोहननहींहोरहाथा। उन्होंनेकहा,“केंद्रसरकारकोकईबारकिएगएआग्रहकेबादस्थापितहुएइसबिजलीसंयंत्रसेपूर्वोत्तरकीबिजलीसमस्यादूरहोगी।”