ऑनलाइन पढ़ाई की नजीर बन रहे परिषदीय विद्यालय

हरदोई:परिषदीयविद्यालयोंमेंतोकभीकिसीनेसोचाभीनहींथाकिऑनलाइनपढ़ाईहोसकतीहै।पब्लिकऔरकान्वेंटस्कूलोंमेंऑनलाइनपढ़ाईभलेहीसरलहै,लेकिनसंसाधनवजागरूकताकेअभावमेंपरिषदीयविद्यालयोंमेंऑनलाइनपढ़ाईअसंभवदिखरहीथी।लॉकडाउनकेचलतेविद्यालयबंदहैं,कान्वेंटस्कूलोंमेंऑनलाइनकक्षाएंलगनाशुरूहुईं,तोपरिषदीयविद्यालयोंकेअध्यापकोंनेभीकदमबढ़ाएऔरधीरेधीरेजिलेमेंएकदोनहींदर्जनोंविद्यालयनजीरबनगएहैं।दूरशहरोंमेंअपनेघरोंसेशिक्षक-शिक्षिकाएंगांवोंकेबच्चोंकोपढ़ारहेहैं,नईविधिसेनकेवलबच्चेपढ़नेलगेहैंबल्किउनकेअंदरउत्सुकताबढ़तीजारहीहै।वीडियोकॉलिगसेहोरहीपढ़ाई:सुरसाविकासखंडकेकन्याउच्चप्राथमिकविद्यालयबरहाकीशिक्षिकामंजूवर्मानेतोअभिभावकोंकोपहलेसेहीवाट्सएपग्रुपबनारखाथा।वहबतातीहैंकिइसग्रुपकाउपयोगबच्चोंकोघरोंसेबुलानेकेलिएकरतीथीं,लेकिनअबलॉकडाउनमेंयहकक्षाबनगया।ग्रुपमेंजोअभिभावकनहींथे,उनकेभीपरिवारकेलोगोंकोजोड़लियागयाहै।वीडियोकॉलिगकरछात्रोंकोपढ़ारहीहैं।अबतोबच्चोंकोभीफोनकाइंतजाररहनेलगाहैऔरअपनेनंबरकाइंतजारकरतेरहतेहैं।रोजानावीडियोकालसेकक्षाएंलगरहीहैं।ग्रुपबनाकक्षा,बच्चेसीखरहेगणित:बावनविकासखंडकेअंग्रेजीमीडियास्कूलपिरोजापुरकेशिक्षकराजीवसिंहचौहाननेसबसेपहलेअपनेविद्यालयकोमॉडलबनाकरनजीरकायमकीथी,अबलॉकडाउनकेदौरानभीउनकाविद्यालयनजीरबनरहाहै।रोजानाबच्चोंकोग्रुपपरकामदियाजाताऔरग्रुपपरहीउनसेलिखकरमांगाभीजाताहै।राजीवबतातेहैंकिहिदीवअन्यविषयोंकेसाथहीगणितकेतोसवाललिखकरग्रुपपरडालदिएजातेऔरहरबच्चेसेउनकाउत्तरलिखवायाजाताहै।जोबच्चेसहीभेजतेहैंउनकाहौसलाबढ़ायाजाता।बच्चोंमेंभीउत्साहबढ़रहाहै।बच्चोंमेंबढ़रहारुझान:टड़ियावांविकासखंडकेप्राथमिकविद्यालयबड़ातालकेशिक्षकरामकिकरबाजपेईनेभीऑनलाइनपढ़ाईशुरूकरनजीरकायमकीहै।वहकहतेहैंकिरोजानाबच्चोंकोनयानयाज्ञानदियाजाताहै।ग्रुपपरहीहरविषयपढ़ायाजाता।60फीसदबच्चोंकेअभिभावकग्रुपमेंजुड़भीगएहैं।बच्चेतोपढ़तेहीहैं,अभिभावकोंकेमनमेंभीसम्मानपैदाहोरहाकिउनकेबच्चोंकेलिएइतनीमेहनतकीजारहीहै।बच्चोंकेअंदररुझानबढ़ताजारहाहै।