पेड़ो पर ही निर्भर है मनुष्य का जीवन

मयूरहंड:पेड़है,तोहमहै।पेड़-पौधेनहीहोतेतोमनुष्यभीनहींहोता।पेड़ईश्वरतुल्यहै।परिवारकीभांतिपेड़ोंऔरजंगलोंकीरक्षाकरें।उक्तबातेंप्रखंडविकासपदाधिकारीसंतोषकुमारनेगुरुवारकोदैनिकजागरणकेद्वाराचलाएजारहापौधालगाओ,वृक्षबचाओअभियानकेदौरानकहीं।बीडीओप्रखंडकेहुसियापंचायतकेपुरैनीगांवस्थितउत्क्रमितमध्यविद्यालयपरिसरमेंपौधारोपणकररहेथे।इसमौकेपरउन्होंनेविद्यालयपरिसरमेंआमकापौधेलगाए।उन्होंनेकहाकिदैनिकजागरणद्वाराचलायाजारहाअभियानकीजितनीतारीफकीजायकमहै।अभियानसेबंजरहुएभूमिमेंभीहरियालीलौटसकतीहै।जिससेवातावरणसंतुलितहोसकताहै।उन्होंनेकहाकिजिसतेजीसेपेड़-पौधोंकोकाटाजारहाहै,उससेवातावरणप्रभावितहोरहाहै।जिससेपर्यावरणसंकटउत्पन्नहोगया।बीडीओनेविद्यालयकेबच्चोंकोकमपांचपौधालगानेकीअपील।इसमौकेपरसमाजसेवीसुधीर¨सह,प्रधानाध्यापकविकासकुमार¨सह,शिक्षकरामजीवन¨सह,विजयकुमार,रमेशकुमार,कृषिमित्रमनोज¨सहअन्यउपस्थितथे।