फखरपुर उमवि में है संसाधनों की घोर कमी

अरवल।शिक्षामेंसुधारकरनेकेलिएनित्यप्रतिघोषणाएंकीजातीहैऔरवाहवाहीलूटनेकाप्रयासकियाजाताहैलेकिनधरातलपरकोईसुधारनहींहोरहाहै.।स्थितिअभीभीबदतरबनीहुईहै।.

इससेछात्रोंकेभविष्यपरकाफीबुराप्रभावपड़रहाहै।.सरकारकेदावोंकीपोलसरकारीविद्यालयोंमेंखुलजातीहै।.विद्यालयोंमेंसंसाधनोंकाकाफीअभावहै।.सदरप्रखंडक्षेत्रकेफखरपुरउत्क्रमितमध्यविद्यालयमेंकईचौंकानेवालीबातेंसामनेआईहै।इसविद्यालयमेंछात्रोंकीसंख्याकाफीहैपरमूलभूतसुविधाओंकाघोरअभावहै।.बेंचकीकमीसेछात्रोंकीपढ़ाईप्रभावितहोरहीहै।.वहींशौचालयमेंगंदगीकासाम्राज्यहै।इसकेकारणछात्र-छात्राओंकोकाफीपरेशानीझेलनीपड़तीहै।.मजबूरीमेंछात्र-छात्राओंकोशौचालयकेलिएबाहरकरनापड़ताहै।केवल10जोड़ीबेंचडेक्सहीविद्यालयमेंहैइसकेकारणछात्रोंकोबैठनेमेंपरेशानीहोरहीहै।हालांकिमध्याह्नभोजनसभीछात्रोंकाबनायाजाताहै।.बच्चेअपनेघरसेथालीकटोरालेकरकेआतेहैंऔरमध्यानभोजनकरतेहैं।मध्यानभोजनकरनेकेलिएस्कूलमेंथालीतकनहींहै।वहींबेंचकेअभावमेंबच्चेजमीनपरबैठकरपढ़नेकोमजबूरहैं।

शिक्षकोंद्वारामौखिकहीपढ़ाईकीजारहीहै.।खराबहोचुकेब्लैकबोर्डकेकारणशिक्षकमौखिकहीपढ़ातेहैं।इससेछात्रोंकोगुरुकुलकीयादआरहीहै.जबकिसरकारशिक्षामेंविकासकेदावेकरतीहैपरप्रशासनिकलापरवाहीकेकारणपुस्तकेंअभीतकनहींउपलब्धकराईगईहै।शौचालयमेंभीहैगंदगीकाअंबारविद्यालयमेंशौचालयकानिर्माणकरायागयाहैपरसाफ-सफाईकीव्यवस्थादयनीयहै।.इसकेकारणशौचालयमेंकाफीगंदगीफैलीहुईहै.।जबकिसरकारद्वारास्वच्छभारतमिशनकेतहतकार्यक्रमचलायाजारहाहै।.विद्यालयमेंइसयोजनाकीधज्जियांउड़ायीजारहीहै.।शिक्षासंस्थानमेंजबगंदगीकाअंबाररहेगातोअन्यजगहोंपरस्थितिक्याहोगी।.शौचालयनिर्माणकाउद्देश्यपूरानहींहोपारहाहै।.इसकेनिर्माणपरखर्चकीगयीराशिकाकोईअर्थनहींरहगयाहै.।बेंचकेअभावमेंजमीनपरबैठतेहैंछात्रविद्यालयमेंबेंचकीकाफीकमीहै।.इसकेकारणछात्रोंकोजमीनपरबैठकरपढ़ाईकरनीपड़तीहै।सरकारवर्षोंसेविद्यालयोंमेंसंसाधनकोपूराकरनेकाप्रयासकररहीहै।.इसपरकरोड़ोंरुपयेखर्चकियेजातेहैंफिरभीविद्यालयोंमेंसंसाधनोंकीकाफीकमीहै.।जमीनपरबैठकरपढ़तेछात्रगुरुकुलकीयादताजाकरतेहैं।.वहींइसकेकारणपढ़ाईभीठीकसेनहींकरपातेहैं।.इसओरप्रशासनध्याननहींदेरहाहै।ऐसेमेंबच्चोंकीपढ़ाईकैसेहोगी.।गर्मीकेदिनोंमेंफर्शपरबैठनेमेंबच्चोंकोपरेशानीहोतीहै।.लेकिनकोईध्याननहींदेरहाहै।.543छात्रोंपर20शिक्षकहैं।विद्यालयमेंक्लासरूमकीभीकोईकमीनहींहै।तकरीबन20कमरेहैं।शिक्षककीकमीनहींरहनेसेपढ़ाईतोसुचारूढंगसेचलतीहैलेकिनसंसाधनोंकेअभावमेंबच्चेविद्यालयकमआतेहैं।बाउंड्रीवालनहींहोनेकेकारणअसामाजिकतत्वोंकेद्वाराशौचालय,चापाकलतथाखिड़कीदरवाजेआदिकोतोड़दिएगएहैंजिससेशिक्षकऔरछात्रदोनोंकीपरेशानीहोतीहैसुनिएप्रधानाध्यापककीविद्यालयमेंशौचालयकानिर्माणबेहतरतरीकेसेकरायागयाथा।पानीटंकीभीलगायागयाथा।विद्यालयमेंखिड़कीदरवाजालगायागयाथालेकिनअसामाजिकतत्वोंद्वाराइसेतोड़दियाजाताहै।चाहरदीवारीनहींहोनेकेकारणपरेशानीहोतीहैविद्याकुमार