रेशम विकास को गति देने की तैयारी

जागरणसंवाददाता,बांदा:बुंदेलखंडकेजनपदोंमेंरेशमविकासकोगतिदेनेकीतैयारीहै।चालूवित्तीयवर्षमेंजिलायोजनाकेतहतकईजनपदोंकोधनराशिआवंटितकीगईहै।

बुंदेलखंडकामुख्यव्यवसायकृषिआधारितहै।इसकेअलावापशुपालन,मत्स्यपालनसहितरेशमविकासकीयोजनाएंचलायीजारहीहैं।ताकिकृषकोंकोखेतीकेअलावाअन्यमाध्यमोंसेआमदनीकीराहमिलसके।हालहीमेंऐरीरेशमविकासयोजना(जिलायोजना)केअंतर्गतधनराशिआवंटितकीगई।इससंबंधमेंरेशमनिदेशालयलखनऊसेजारीकिएगएपत्रमेंकहागयाहैकिआवंटितधनराशिमौजूदावित्तीयवर्षकेप्रथमपांचमाहकेलिएहै।इसकेतहतअनुरक्षणप्रशिक्षण्आदिमेंखर्चकिएजानाहै।जानकारीकेमुताबिकऐरीरेशमविकासयोजनाकेतहतलगभगछहलाखरुपएआवंटितकिएहैंजिसमेंबांदाको1लाख69हजार,हमीरपुरकेलिए1लाख30हजार,चित्रकूटकेलिए1लाख29हजारएवंजालौनकेलिए1लाख69हजाररुपएआवंटितहुएहैं।

रेशमविकासकेलिएबनेहब

बांदा:बुंदेलखंडमेंरेशमविकासकीसंभावनाओंकोदेखतेहुएइसपरप्रभावीक्रियान्वयनकरायाजाए।समाजसेवीआवासविकासनिवासीकुलदीपशुक्लाकाकहनाहैकियहांकीभौगोलिकस्थितिरेशमपालनकेलिएबेहतरहै।किसानोंकोइसकाप्रशिक्षणदेकरसरकारबजटदेऔरजमीनपरइसकाप्रभावीक्रियान्वयनकरायाजाएताकिज्यादासेज्यादालोगलाभान्वितहोसकें।इसकेलिएहबभीबनायाजाए।