रोहतास जिले में 140 भवनहीन-भूमिहीन विद्यालयों में छात्रों को भविष्य संवारने का दावा

जागरणसंवाददाता,सासाराम:रोहतास।लाखोंबच्चे,हजारोंसपने,सबकासमाधान,सिर्फशिक्षाअभियान।सरकारकेलाखप्रयासकेबावजूदअभीतकसभीसरकारीविद्यालयोंकोअपनाभवननसीबनहींहोपायाहै।जिलेमेंभवनवभूमिहीनविद्यालयोंकीसंख्या140है,इसमेंसेकईऐसेस्कूलहैंजिनकाअपनागौरवशालीइतिहासरहाहै।पूर्वजोंनेकट्ठामेंनहींबिगहामेंदानदेकरविद्यामंदिरकोबनानेकाकामकियाहै,परंतुनियमकानूनकेदांवपेंचमेंफंसकरआजअपनाअस्तित्वखोनेकेकगारपरपहुंचगयाहै।43विद्यालयोंकेपासभूमिआवंटनकरानेकेलिएअधिकारियोंकेआश्वासनपत्रकेअलावाकुछनहींहै।दोदर्जनसेअधिकभवनहीनविद्यालयोंकेबच्चेगर्मी,बरसातवकड़ाकेकीठंडमेंविद्यालयआनेकाप्रयासतोकरतेहैंलेकिनपढ़ाईकेलिएसंसाधनोंकीकमीउन्हेंबैरंगघरलौटनेकोविवशकरदेरहाहै।हालांकिइनछात्रोंकीउपस्थितिविद्यालयकीपंजीमेंप्रतिदिनबनतीहैवगुणवत्तापूर्णशिक्षाकेदावेभीकिएजारहेहैं।122विद्यालयोंकोसमीपकेस्कूलोंमेंटैगकरनेकेप्रस्तावभीगतएकवर्षसेसंचिकामेंधूलफांकरहाहै।जिलेकेकईविद्यालयोंकेपासभूमिहैतोविभागकेपासराशिकीकमीहै।इनविद्यालयोंकेबच्चेसमीपकेभवनवालेस्कूलोंमेंशिफ्टहोकरअपनाभविष्यसंवारनेकाकामकररहेहैं।जोविद्यालयसंसाधनवसुविधाओंसेलैसहैतोवहांअधिकारियोंवशिक्षकोंकी²ढ़इच्छाशक्तिकीकमीकेकारणसैकड़ोंछात्रोंकाभविष्यअंधकारमयबनाहै।आधारभूतसरंचनाकीबाततोकरेंतोजिलेमें122प्राथमिकवमध्यविद्यालयहैजोभवनवभूमिहीनहैं,जिससमीपकेभवनवालेस्कूलोंमेंमर्जकरनेकाप्रस्तावविभागकोभेजागयाहै।उसमेंसेअधिकतरनवसृजितप्राथमिकविद्यालयहै,जिसकासंचालनयातोखुलेआसमानहोरहाहैयाफिरपंचायतसरकारभवन,मंदिरकेप्रांगणमें।कहींयूनिटसेअधिकतोकहींशिक्षककेहैलाले:

शिक्षाविभागस्कूलोंमेंशिक्षकोंकीकमीकोआजतकदूरनहींकरसकाहै।किसीविद्यालयमेंयूनिटसेअधिकशिक्षकहैंतोकिसीमेंएक।दूर-दराजइलाकेमेंपदस्थापितशिक्षकभीशहरीयागांवकेपासकेविद्यालयोंमेंप्रतिनियोजनकराआरामकीड्यूटीफरमारहेहैं।प्रतिनयोजनरदकरनेकाविभागीयफरमानभीधरारहगयाहै।शौचालयोंवपेयजलकीस्थितिबदहाल:

स्कूलोंमेंबनेशौचालयवपेयजलकीस्थितिभीआधेसेअधिकविद्यालयोंमेंबदहालहै।रखरखावकेअभावमेंशौचालयकेदरवाजासेलेकरलैट्रीनसीटतकगायबहोगएहैं।चापाकलभीखराबस्थितिमेंहै।इसमेंग्रामीणोंकीभीलापरवाहीसेइंकारनहींकियाजासकता।------------

भूमिहीन43विद्यालयोंकोजमीनउपलब्धकरानेकेलिएसीओसेपत्राचारकाफीसमयसेकियाजारहाहै।अबतकजमीनकीउपलब्धतानहींहोपाईहै।97भवनहीनविद्यालयोंमेंवर्गकक्षनिर्माणकाप्रस्तावभेजागयाहै,गतचारवर्षोंसेइसमदमेंराशिकीकमीबनीहुईहै।छात्रोंकीउपस्थितिपंजीपरनामदर्जकरगलतउपस्थितिदिखानेवालेशिक्षकोंपरभीकार्रवाईकीजारहीहै।

राघवेंद्रप्रतापसिंह,डीपीओ,सर्वशिक्षाअभियान।

जिलेमेंविद्यालयोंकीस्थितिएकनजरमें:कुलप्राथमिकविद्यालय:1270

कुलमध्यविद्यालय:798

कुलउच्चवउमावि:329

संस्कृतविद्यालय:15

बुनियादीविद्यालय:04

अजजाविद्यालय:01

प्रोजेक्टविद्यालय:08

समाजकल्याणविभाग:03

एकलशिक्षकवालेस्कूल:105

कुलभवनहीनविद्यालय:97

कुलभूमिहीनविद्यालय:43

-कागजोंमेंदिखरहाप्रयास,धरातलपरसन्नाटा

-जमीनतलाशनेमेंभीअधिकारीनहींदिखारहेरूचि

-चारसालसेविद्यालयनिर्माणकेलिएनहींमिलरहीराशि