रोहतास में निर्माण के 12 वर्ष बाद भी चालू नहीं हो पाया मिट्टी जांच केंद्र

रोहतास।स्थानीयप्रखंडकृषिकार्यालयकेपासवर्ष2009में6.73लाखकीलागतसेमिट्टीपरीक्षणप्रयोगशालाकाभवनबनाइसकीस्थापनाकीगईथी।विडंबनायहहैकि12वर्षबीतनेकेबादभीप्रयोगशालाचालूनहींहोसका।वर्षोंक्षेत्रकेकिसानमिट्टीजांचप्रयोगशालाचालूहोनेकाइंतजारकररहेहैं,परंतुइसकेंद्रमेंआजतककिसीकर्मीकीबहालीनहींकीगईहै।प्रयोगशालाचालूनहींहोनेसेकिसानप्रखंडकृषिकार्यालयमेंकिसानसलाहकारसेसंपर्ककरसासारामसेमिट्टीजांचकरवातेहैं।

किसानोंकाकहनाहैकिअगरयहमिट्टीजांचकेंद्रचालूहोजाए,तोवेअपनेखेतोंकीमिट्टीकीजांचकराकरखेतोंकीउर्बराशक्तिजानतेऔरउसकेआधारपरआवश्यकपोषकतत्वकाप्रयोगकरफसलकीपैदावारबढ़ाते।केंद्रमेंकर्मीनहींरहनेसेकिसानोंकोयहलाभनहींमिलरहाहैउपजबढ़ानेकोमिट्टीकापरीक्षणमहत्वपूर्ण:

प्रखंडतकनीकीप्रबंधकरविदरकुमारनेबतायाकिकिसीभीपौधेकीपूर्णवृद्धिकेलिए16पोषणतत्वआवश्यकहोतेहैं।इन16तत्वोंमेंसेकिसीएकतत्वकीकमीहोनेपरपौधेपरदुष्प्रभावदेखनेकोमिलताहै।मिट्टीमेंकिसीविशेषपोषकतत्वकीअधिकतायाकमीहोसकतीहै।यहफसलकीवृद्धिवपैदावारपरप्रभावडालतीहै।इसलिएमिट्टीकापरीक्षणसबसेमहत्वपूर्णऔरपहलाकदमहै।मिट्टीपरीक्षणकेअभावमेंकभी-कभीकिसानउसीपोषकतत्वधारीउर्वरककालगातारउपयोगकरतेहैं,जोपहलेसेहीमिट्टीमेंपर्याप्तमात्रामेंउपलब्धहोताहै।अधिकांशकिसानोंनहींहैमिट्टीपरीक्षणप्रयोगशालाकीजानकारी:

डेहरीप्रखंडकेचकन्हापंचायतकेकिसानभोलायादव,भैसहाकेकिसानअवधेशचौधरी,चकन्हाकेआनंदपांडेय,मथुरीपंचायतकेभेड़ियानिवासीराकेशकुमारउर्फअंटूसिंह,धनंजयसिंह,जमुहारपंचायतकेतेन्दुआनिवासीमुन्नासिंहसमेतअन्यलोगोंनेकहाकीयदिप्रखंडमेंमिट्टीजांचहोती,तोवेअपनेखेतोंकीमिट्टीजांचअसानीसेकराकरउसीअनुसारहीखेतोंमेंखादडालते,लेकिनवेभीअन्यकिसानोंकोदेखकरअपनीेखेतोंमेंखादकाछिड़कावकरतेहैं।कहतेहैअधिकारी:

प्रखंडकृषिपदाधिकारीअशोकप्रियदर्शीनेबतायाकिहमारेआनेकेपूर्वसेहीभवनबनाहुआहै,लेकिनअभीतकमिट्टीजॉचप्रयोगशालामेंकोईभीकर्मीकार्यरतनहींहै।भवनमेंतालाबंदरहताहै।जहांतकमिट्टीजांचकीबातहै,तोहमलोगोंद्वाराकिसानसलाहकार,कृषिसमन्वयककेमाध्यमसेप्रखंडकेविभिन्नगांवोंसेमिट्टीएकत्रितकरजिलाकोभेजीजातीहै।जिलामिट्टीजांचप्रयोगशालामेंवहांउसकीजांचहोनेकेबादमृदास्वास्थ्यकार्डबनाकरकिसानोंकोकार्डउपलब्धकराईजारहाहै।