शानदार रिजल्ट देने वाला सिमुलतला आवासीय विद्यालय के पास नहीं है बेसिक सुविधाएं

पटनाबिहारविद्यालयपरीक्षासमितिद्वाराआयोजितमैट्रिक(दसवीं)कीपरीक्षामेंराज्यकेजबआधेसेज्यादापरीक्षार्थीअसफलघोषितहुएहैं।ऐसेमेंबिहारकेसिमुलतलाआवासीयविद्यालयकेबच्चोंनेलगातारदूसरेवर्षरेकॉर्डतोड़सफलताअर्जितकीहै।दिलचस्पबातहैकिआजभीयहस्कूलनकेवलकिराएकेमकानमेंचलताहै,बल्किस्थापनाकेपांचवर्षबादभीआधारभूतसंरचनाओंसेवंचितहै।इसवर्षशीर्षदसस्थानपरइसविद्यालयके42परीक्षार्थीहैं।राज्यकेजमुईजिलामुख्यालयसेकरीब60किलोमीटरदूरपहाड़ोंऔरजंगलोंकेबीचवर्ष2010मेंझारखंडकेनेतरहाटआवासीयविद्यालयकीतर्जपरइसविद्यालयकीस्थापनाकीगईथी।अबभीयहस्कूलसुविधासंपन्ननहींहुआहै।इसविद्यालयकेछात्रोंकीसफलताकाप्रतिशतभलेहीशतप्रतिशतरहाहो।इसकेबादभीआधारभूतसंरचनाकेअभावकेकारणयहांके70प्रतिशतबच्चेआगेकीपढ़ाईअन्यजगहोंकेविद्यालयोंमेंकरनाचाहतेहैं।पिछलेवर्षइसविद्यालयके120विद्यार्थियोंमेंसेसिर्फ45छात्रोंनेहीयहां11वींमेंप्रवेशलियाथा।शेषछात्रस्थानांतरणप्रमाणपत्र(टीसी)लेकरकहींऔरचलेगएथे।राज्यकेशिक्षामंत्रीअशजकचौधरीभीमानतेहैंकिइंटर(12वीं)स्तरपरपाठ्यक्रमोंकेलिएविद्यालयमेंशिक्षकोंकेसमक्षकईसमस्याएंहैं।हालांकिवेयहभीकहतेहैंकिजल्दहीसमस्याएंदूरहोजाएंगी।उन्होंनेकहाकिविद्यालयमेंआधारभूतसंरचनाव्यवस्थितकरनेकेप्रयासकिएजारहेहैं।उधर,विद्यालयकेप्रचार्यशंकरकुमारविद्यालयकेपरीक्षापरिणामसेखुशहैं।उन्होंनेकहा,'बुनियादीसुविधाओंकोव्यवस्थितकरनाउनकेलिएसमस्याबनीहुईहै।यहांकेबच्चोंकोनखेलनेऔरनहीपीनेकेपानीकीउचितव्यवस्थाहै।'प्राचार्यकहतेहैंकियहांकेशिक्षकअपनेछात्रोंकोतराशनेमेंकिसीप्रकारकीकोईकमीनहींछोड़तेहैं।यहीवजहहैकिइसस्कूलके121छात्रपरीक्षामेंशामिलहुएथे,जिनमें107छात्रोंने90प्रतिशतसेज्यादाअंकहासिलकिएहैं।सिमुलतलाआवासीयविद्यालयकीबबीताकुमारीऔरतृषातन्वीनेसमानअंक483हासिलकिएऔर‘स्टेटटॉपर’बनीं,जबकितीनअन्यछात्र482अंकलाकरसंयुक्तरूपसेदूसरास्थानपररहे।उन्होंनेबतायाकिइसविद्यालयके42छात्रोंनेराज्यभरमेंप्रथमदसमेंअपनीजगहबनाईहै,जिनमें25लड़कियांऔर17लड़केहैं।पिछलेवर्ष2015कीमैट्रिकपरीक्षामेंइसविद्यालयके30छात्रराज्यकेप्रथम31स्थानपररहेथे।