शराब के उत्पादन, वितरण और खपत को प्रतिबंधित करने की मांग, हाईकोर्ट ने नोटिस जारी करने से किया इंकार

नईदिल्ली,जागरणसंवाददाता।शराबकेउत्पादन,वितरणऔरखपतकोप्रतिबंधितकरनेकीमांगकोलेकरदायरयाचिकापरनोटिसजारीकरनेसेदिल्लीहाईकोर्टनेशुक्रवारकोइन्कारकरदिया।मुख्यन्यायमूर्तिडीएनपटेलवन्यायमूर्तिज्योतिसिंहकीपीठनेमामलेकोचारजुलाईतककेलिएस्थगितकरतेहुएदूसरेपक्षकोकहाकिउपाध्यायद्वारादायरकीगईसभीयाचिकाओंकोएकत्रितकरतेरहें।पीठनेकहाकिहमदेखेंगेकिअगलीतारीखकोक्याकरनाहै।रोजानाआपयाचिकादायरकररहेहैं।पीठनेपूछाकिकितनीयाचिकाएंआपटाइपकरचुकेहैंऔरकितनीआपकीदराजमेंप्रिंटकेलिएहैं?

पीठनेइसकेसाथहीमामलेकोचारजुलाईतककेलिएस्थगितकरदिया।भाजपानेतावअधिवक्ताअश्विनीउपाध्यायनेयाचिकादायरकरदलीलदीकिशराबस्वास्थ्यकेलिएखतरनाकहैऔरसंविधानकेअनुच्छेद21केतहतसंरक्षितस्वच्छऔरसुरक्षितवातावरणमेंरहनेकेअधिकारकोप्रभावितकरतीहै।उन्होंनेसिगरेटकेपैकेटकीतरहकीशराबकीबोतलोंऔरपैकेजोंपर'स्वास्थ्यचेतावनी'प्रकाशितकरनेकेलिएसरकारकोनिर्देशदेनेकीमांगकी।

याचिकामेंआगेकहागयाहैकिदिल्लीमेंकुल280नगरपालिकावार्डहैंऔर2015तककेवल250शराबकीदुकानेंथीं।यानीहरवार्डमेंऔसतनएकशराबकीदुकानऔर30वार्डमेंशराबकीदुकाननहींथी।लेकिनअबहरवार्डमेंतीनशराबकीदुकानेंखोलनेकीयोजनाबनारहाहै,जोकिमनमानाऔरतर्कहीनहै।राज्यशराबऔरनशीलीदवाओंकेसेवनपरप्रतिबंधलगानेकेलिएबाध्यहै,लेकिननशीलेपेयऔरनशीलीदवाओंकेस्वास्थ्यकेखतरोंकेबारेमेंविज्ञापनदेनेकेबजायशराबकीखपतकोबढ़ावादेरहाहै।