सजाया गया क्वारंटाइन सेंटर ताकि पृथकवास में बनी रहे सकारात्मकता

पिथौरागढ़,जेएनएन:प्रवासियोंकेलिएग्रामीणक्षेत्रोंमेंविद्यालयोंवपंचायतभवनोंमेंबनेक्वारंटाइनमेंव्यवस्थाओंकोलेकरसवालउठाएजारहेहैं।विकासखंडविणकेअंतर्गतपड़नेवालेराजकीयआदर्शविद्यालयजाजरचिंगरीकेक्वारंटाइनसेंटरकोसजायागयाहै।अलबत्ताक्वारंटाइनसेंटरक्षतिग्रस्तहै,परंतुयहांपर14दिनप्रवासकरनेवालेप्रवासियोंकोमायूसीकेस्थानपरसकारात्मकसोचमिलेइसेध्यानमेंरखतेहुएग्रामप्रधानसेलेकरविद्यालयकास्टाफसाफ-सफाईमेंजुटाहै।

राआविजाजरचिंगरीविकासखंडकादूरस्थक्वारंटाइनसेंटरहै।विद्यालयभवनकेक्षतिग्रस्तघोषितहै।इसेक्वारंटाइनसेंटरबनाएजानेकेबादग्रामप्रधानधनीचंद,क्षेत्रपंचायतसदस्यसावित्रीदेवीकेनिर्देशनपरसेंटरकोसजायागयाहै।विद्यालयपरिसरमेंक्यारियांबनाकरफूलकेपौधेलगाएजारहेहैं।क्षतिग्रस्तचाहरदीवारीकीमरम्मतकीजारहीहै।विद्यालयकेप्रधानाध्यापकचंद्रशेखरजोशीद्वारासफेदीकेलिएधनउपलब्धकरायागयाहै।ग्रामप्रधान,बीडीसीसदस्यऔरप्रधानाध्यापककहनाहैकिविद्यालयभवनक्षतिग्रस्तकीश्रेणीमेंहै।इसक्वारंटाइनमेंगांवकेहीबाहरीराज्योंमेंकार्यकरनेवालेप्रवासीक्वारंटाइनकररहेहैं।इसअवधिमेंउनमेंसकारात्मकताबनीरहेइसेध्यानमेंरखतेहुएयहसबकियाजारहाहै।

क्वारंटाइनमेंइससमय14लोगहैं।जिनमेंसभीइसीविद्यालयसेपढ़ेहुएहैं।गुरुग्रामसेआएकिशनराम,मनीषा,दिल्लीसेआएप्रकाशसिंह,विक्रमसिंहऔरमोहनचंदक्वारंटाइनसेंटरकीव्यवस्थाओंसेसंतुष्टहैं।उनकाकहनाहैकिजिसविद्यालयसेपढ़करबाहरनिकलेथेअबक्वारंटाइनअवधिपूराहोनेपरउसेसजाएंगे।विद्यालयकाकिचनभोजनकेलिएखोलागयाहै।