सरस्वती विद्या मंदिर में सुभाष चंद्र बोस की मनी जयंती

संवादसूत्र,लातेहार:सरस्वतीविद्यामंदिरलातेहारकेप्रांगणमेंभारतकेस्वतंत्रतासंग्रामकेअग्रणीतथासबसेबड़ेनेतासुभाषचंद्रबोसकी124वींजयंतीमनाईगई।इसअवसरपरमुख्यअतिथिविभागप्रमुखविवेकनयनपांडेयनेभारतीयइतिहासमेंसुभाषचंद्रबोसकीभूमिकाकोबताया।विद्यालयकेआचार्यकपिलप्रमाणिकनेआजादहिदफौजकीभूमिकापरप्रकाशडाला।इसकार्यक्रमकेबाददसवींकक्षाकेविद्यार्थियोंकेलिएविदाईसमारोहकाआयोजनकियागया।इसकीशुरुआतसरस्वतीवंदनासेकीगई।इसअवसरपरविद्यार्थियोंनेअपनेद्वाराविद्यालयमेंबिताएगएकुछपलोंकोयादकिया।विद्यार्थीजयकांतमिश्रानेबतायाकिमैंइसविद्यालयमेंकक्षापंचमसेपढ़रहाहूंऔरमैंनेपायाकियहांपरगुणवत्तायुक्तशिक्षाकेसाथसाथव्यक्तित्वनिर्माणवसंस्कारविकासपरभीध्यानदियाजाताहै।विद्यालयकेप्रधानाचार्यवरुणचौधरीनेकहाकिमेरीइच्छाहैकिमेरेछात्रपहलेसेभीअधिकआगेबढ़ेंऔरइसविद्यालयकाराज्यऔरअपनेमाता-पिताकानामरोशनकरें।