तब पूर्वांचल की बदहाली पर रोई थी देश की संसद, अब सीएम योगी आदित्यनाथ ने बनाया विकास का रास्ता

लखनऊ[राज्यब्यूरो]।जिसपूर्वांचलकेछोटे-छोटेजिलेएक्सप्रेस-वेकेमाध्यमसेराजधानीलखनऊऔरदिल्लीसेजुड़गएहैं,उसकाइतिहासबदहालीसेजुड़ारहाहै।प्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीनेएक्सप्रेस-वेकालोकार्पणकरतेहुएगतदिवसजबभरोसाजतायाकिमुख्यमंत्रीयोगीआदित्यनाथकीदृढ़इच्छाशक्तिसेअबऔरतेजीसेपूर्वांचलकाभाग्यबदलेगातोइतिहासकेदशकोंपुरानेपन्नेपलटगए।चर्चाउसघटनाकीशुरूहोगई,जबगाजीपुरकेसांसदविश्वनाथसिंहगहमरीअपनेअंचलकीबदहालीकीव्यथासंसदमेंरोतेहुएसुनाईतोमौजूदसभीसांसदोंकीआंखेंनमहोगईथीं।

योगीसरकारनेलखनऊसेगाजीपुरतक341किलोमीटरकापूर्वांचलएक्सप्रेस-वेबनायाहै।इसेअंचलकेविकासकाएक्सप्रेस-वेप्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीनेबताया।भरोसाजतायाकिअबपूर्वांचलकाभाग्यऔरतेजीसेबदलेगी।इससेजोड़तेहुएसरकारीप्रवक्तानेपुरानीघटनाकाजिक्रकिया।बतायाकिसाठकेदशकमेंगाजीपुरकेसांसदविश्वनाथगहमरीसंसदमेंरोपड़ेथे।बदहालीकीव्यथासुनकरउनकेसाथदेशकीसबसेबड़ीपंचायतमेंमौजूदअधिकांशसांसदोंकीआंखेंनमहोगईथीं।

उसकेबादभीविकासकेलिहाजसेपूर्वांचलउपेक्षितहीरहा।मुख्यमंत्रीयोगीआदित्यनाथकीअगुवाईमेंसबकासाथ,सबकाविकासनारेकेअनुरूपपूर्वांचलकेसमग्रविकासपरपहलीबारध्यानदियागया।पूर्वांचलएक्सप्रेस-वेसीएमयोगीकाड्रीमप्रोजेक्टथा,निजीतौरपरइसकेकामऔरगुणवत्तापरउनकीलगातारनजरथी,इसलिएस्वाभाविकरूपसेइसकाश्रेयभीउन्हींकोजाताहै।इसकेउद्घाटनकेअवसरपरप्रधानमंत्रीमोदीनेयोगीकोकर्मयोगीकीउपमादी।साथहीकहाकियोगीकेकार्यकालमेंबिनारुके,बिनाथकेलगातारविकासकेजोकामहुएहैंऔरहोरहेहैं,वहउनकीदृढ़इच्छाशक्तिकाप्रमाणहै।

पूर्वांचलएक्सप्रेस-वेबनचुका,प्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीनेइसकालोकार्पणकरदियाऔरवाहनरफ्तारभीभरनेलगे।मगर,राजनीतिकगलियारेमेंएकबहसठिठकीहैकिपरियोजनाकिसनेशुरूकीऔरकिसनेपूरीकी?सपामुखियावपूर्वमुख्यमंत्रीअखिलेशयादवनेदावाकियाहैकिउनकेशासनकालमेंइसकाशिलान्यासहोगयाथा।उत्तरप्रदेशएक्सप्रेस-वेऔद्योगिकविकासप्राधिकरण(यूपीडा)कीफाइलोंमेंइसएक्सप्रेस-वेकीकहानी2017सेपहलेशुरूजरूरहोतीहै,लेकिनशिलान्याससेलोकार्पणतककासफरजुलाई2018से2021केबीचकाहीहै।

इसपरियोजनासेशुरुआतसेजुड़ेरहेयूपीडाकेएकवरिष्ठअधिकारीबतातेहैंकिकुललगभग450हेक्टेयरजमीनकाअधिग्रहणएक्सप्रेसवेकेलिएकियागया।इसमेंसेमात्रदसप्रतिशतजमीनही2017तकअधिग्रहीतहुईथी।शेषजमीन2017केबादहीअधिग्रहीतकीगई।परियोजनाकाएस्टीमेटभीबनचुकाथा,लेकिननईसरकारनेउसेसंशोधितकराया।उससेलगभगएकहजारकरोड़रुपयेलागतघटगई।फिरजबनिविदा(टेंडर)कीप्रक्रियापारदर्शीतरीकेसेकीगईतोटेंडरभीछहप्रतिशतकमदरपरहुए,जबकिपहलेयहभीमहंगेथे।इसतरहकुलकरीबदोहजारकरोड़रुपयेलागतघटीऔरएक्सप्रेसवे22497करोड़रुपयेमेंबनकरतैयारहुआ।

उन्होंनेबतायाकि14जुलाई,2018कोप्रधानमंत्रीनेआजमगढ़सेपूर्वांचलएक्सप्रेस-वेकाशिलान्यासकिया।अगस्तमेंनिर्माणदायीकंपनियोंकेसाथअनुबंधहुआ,अक्टूबर,2018मेंनिर्माणशुरूहुआ।इसतरहतीनसालमेंऊबड़खाबड़जमीनपरयहएक्सप्रेस-वेबनकरतैयारहुआ,जिसकालोकार्पणमंगलवारकोपीएमनरेन्द्रमोदीनेकिया।उल्लेखनीयहैकिइसअवधिमेंकोरोनाकीपहलीलहरकेदौरानलगालाकडाउनऔरमौतकातांडवमचानेवालेदूसरीलहरकासमयभीशामिलहै।इनविषयपरिस्थितियोंमेंभीपरियोजनारुकीनहीं।इनअधिकारीकादावाहैकिलखनऊ-आगराएक्सप्रेस-वेऔरपूर्वांचलएक्सप्रेस-वेकीसड़ककीचौड़ाईसमानहै।लागतघटानेकेलिएकुछडिजाइनजरूरबदलेगएहैं।

...तोनिकासपरहीलगेगाटोलटैक्स:टोलटैक्सकोलेकरअभीनिर्णयनहींहोसकाहै,लेकिनमानाजारहाहैकिइसकीदरभीलगभगआगरा-लखनऊएक्सप्रेस-वेकेसमानहीरहेगी।वह301किलोमीटरकाहैऔरनयाएक्सप्रेस-वे341किलोमीटरलंबा।इसपरगंभीरतासेविचारचलरहाहैकिएक्सप्रेस-वेपरप्रवेशकीबजाएनिकासकरतेसमयहीवाहनसेटोलटैक्सलियाजाए,ताकियात्रीकोउतनाहीटैक्सदेनापड़े,जितनावहसफरकरे।