उत्तराखंड में उम्मीद बंधा रही पर्यटन विकास की तस्वीर, सैलानियों के आंकड़ों पर डालें नजर

राज्यब्यूरो,देहरादून।UttarakhandTourism उत्तराखंडमेंपर्यटनविकासकीतस्वीरउम्मीदबंधारहीहै।पर्यटनकोआर्थिकीवरोजगारकासशक्तमाध्यमबनायाजासकताहै।जनसामान्यकेबीचइसपरिकल्पनाकोलेजानेमेंसरकारोंकोसफलतामिलीहै,लेकिनसहीमायनेमेंपर्यटनकोरोजगार,स्वरोजगारकेरूपमेंस्थापितकरनेकीचुनौतीअभीभीबरकरारहै।होमस्टेजैसीकमखर्चीलीयोजनाकीशुरुआतीसफलतापर्यटनसुविधाओंकेविकासकेमद्देनजरनईकहानीगढ़तीदिखरहीहै।पिछले10वर्षोंमेंपर्यटन-तीर्थाटनकेक्षेत्रमेंविभिन्नयोजनाओंपरकामहुआहैऔरबीतेपांचवर्षोंमेंइनमेंतेजीआईहै।इससेभविष्यकीसंभावनाओंकेद्वारभीखुलेहैं।पर्यटनसुविधाओंकेविस्तारकोपर्यटकवश्रद्धालुस्वयंभीमहसूसकररहेहैं।राज्यमेंचलरहेविधानसभाचुनावमेंभाजपापर्यटनयोजनाओंकाअपनेअभियानमेंप्रयोगकरनेकेसाथहीपांचसालमेंपर्यटनविकासकेआंकड़ोंकोरखरहीहै।वहीं,कांग्रेसयहआरोपलगानेसेनहींचूकरहीकिउसकेकार्यकालकीयोजनाओंकोनामबदलकरभाजपानेआगेबढ़ायाहै।चुनावकेदौरानराजनीतिकआरोप-प्रत्यारोपकाक्रमतोचलतारहेगा,लेकिनअसलचुनौतीतोकोरोनाकालमेंपर्यटनउद्योगपरपड़ेअसरकोदेखतेहुएइसकीगाड़ीकोतेजीसेआगेदौड़ानेकीहै,ताकियहप्रदेशकीआर्थिकीकोऔरसशक्तबनासके।

जीएसडीपीमेंसुधररहायोगदान

पर्यटनकेबजटपरिव्ययऔरराज्यसकलघरेलूउत्पाद(जीएसडीपी)सेउसकेप्रतिशतकोदेखेंतोइसमेंकुछसुधारदिखाईदेताहै।वर्ष2004-05मेंपर्यटनकाबजटपरिव्ययकुलबजटका0.67प्रतिशतथा,जोवर्ष2012-13मेंघटकर0.30प्रतिशतपरआगया।वर्ष2016-17मेंयहबढ़कर0.45प्रतिशतऔरवर्ष2019-20में0.50प्रतिशतहुआ।जीएसडीपीमेंपर्यटनकायोगदानवर्ष2012-13में0.04प्रतिशतऔर2016-17में0.08प्रतिशतथा।वर्ष2019-20मेंयहबढ़कर0.09प्रतिशतहोगया।

चारधामकीहैमहत्वपूर्णभूमिका

उत्तराखंडमेंसामान्यपरिस्थितियोंमेंप्रतिवर्षऔसतनतीनकरोड़सेज्यादासैलानीपहुंचतेहैं।इनमेंयहांकेचारधामबदरीनाथ,केदारनाथ,गंगोत्रीवयमुनोत्रीसमेतअन्यधार्मिकस्थलोंकीमहत्वपूर्णभूमिकाहै।प्रतिवर्षहीबड़ीसंख्यामेंदेश-विदेशसेलोगयहांकेरमणीकवधार्मिकस्थलोंमेंपहुंचतेहैं।पर्यटकोंऔरश्रद्धालुओंकीआवकसेरोजगारकेअवसरभीसृजितहोरहेहैं।चारधामवालेजिलोंचमोली,रुद्रप्रयागवउत्तरकाशीकेनिवासियोंकीआर्थिकीकीअहमधुरीतोचारधामयात्राहीहै।पूर्ववर्तीसरकारनेचारधाममेंसुविधाओंकेविकासपरफोकसकिया,लेकिनइसमेंतेजीपिछलेपांचवर्षोंमेअधिकदेखनेमेंआईहै।

केदारनाथकीविश्वभरमेंब्रांडिंग

जून2013कीकेदारनाथत्रासदीमेंसमूचीकेदारघाटीमेंमचीतबाहीसेसभीवाकिफहैं।केदारनाथधाममेंकेदारपुरीभीतबाहहोगईथी।यद्यपि,प्रदेशकीतत्कालीनसरकारनेतबकीपरिस्थितियोंकेहिसाबसेकदमउठाए,लेकिनकेदारपुरीकेनएकलेवरमेंनिखरनेमेंडबलइंजनकाअसरअधिकदिखा।साथहीप्रधानमंत्रीनेकेदारनाथकेपुनर्निर्माणकोअपनेड्रीमप्रोजेक्टमेंशामिलकिया।इससेवर्तमानसरकारकीभूमिकामानीटङ्क्षरगकीरहीऔरकेदारपुरीकाभव्यस्वरूपनिखरकरसामनेआया।वहांप्रथमचरणकेपुननिर्माणकार्यपूरेहोनेकेबादअब131करोड़कीलागतसेद्वितीयचरणकेकार्यजारीहैं।प्रधानमंत्रीनेकईबारस्वयंकेदारनाथपहुंचकरकेदारनाथकीदेशऔरविश्वमेंब्रांडिंगकरनेमेंकोईकसरनहींछोड़ीहै।नतीजतनपुनर्निर्माणकार्योंकेबादवहांश्रद्धालुओंकीसंख्यामेंबढ़ोतरीहुई।

केदारपुरीकेतरहसंवरेगीबदरीशपुरी

केदारपुरीकीतर्जपरबदरीनाथकोभीसंवारनेकीमुहिमशुरूकीगईहै।वहां220करोड़कीलागतसेप्रथमचरणकेकार्यभीप्रारंभहोचुकेहैं।इसकेअलावागंगोत्रीऔरयमुनोत्रीकेविकासकोभीहालमेंधनराशिस्वीकृतहुईहै।साफहैकियदिचारधाममेंसुविधाएंविकसितहोंगीतोपारंपरिकतीर्थाटनकोअधिकपंखलगेंगे।इससेआर्थिकीभीसंवरेगी।जरूरतदृढ़इच्छाशक्तिकेसाथआगेबढऩेकीहै।

होमस्टेनेजगाईनईउम्मीद

पर्यटनसुविधाओंकाविकासकरइनसेस्वरोजगारकेक्षेत्रमेंहोमस्टेयोजनानेनईउम्मीदजगाईहै।पूर्ववर्तीकांग्रेससरकारकेकार्यकालमेंयहयोजनाशुरूकीगईथी।तबइसकानामथाउत्तराखंडगृहआवास(होमस्टे)योजना।इसकेशुरूहोनेसेदिसंबर2017तकयोजनाकेतहत285आवासीयइकाइयांपंजीकृतहुईं।इनमें205ग्रामीणक्षेत्रऔरशेषशहरीक्षेत्रोंकीथी।बादमेंभाजपासरकारनेयोजनाकानयाखाकाखींचतेहुएइसेनामदियापंडितदीनदयालउपाध्यायहोमस्टेयोजनाऔरइसमें5000होमस्टेकालक्ष्यरखागया।वर्तमानमेंलगभग3700होमस्टेपंजीकृतहोचुकेहैं।इससेचारधामयात्रामार्गोंकेसाथहीट्रैकिंगरूटपरपर्यटकोंवट्रैकरकोरहने-खानेकीसुविधामिलीहै।जाहिरहैकिइसनेरोजगारकेक्षेत्रमेंनईसंभावनाओंकेद्वारखोलेहैं।

16नएईकोडेस्टिनेशन

पर्यावरणीयदृष्टिसेसंवेदनशीलउत्तराखंडमेंईकोटूरिज्मकेलिएभीसरकारोंनेप्रयासकिएहैं।वर्तमानमें16ईकोटूरिज्मडेस्टिनेशनविकसितकिएजारहेहैं।इसकेसाथहीवन्यजीवपर्यटनकोबढ़ावादेनेकेलिएकार्बेटटाइगररिजर्वमेंदोऔरराजाजीटाइगररिजर्वमेंएकनयागेटखोलागयाहै।साहसिकपर्यटनकेदृष्टिगतपर्वतारोहण,ट्रैकिंग,राफ्टिंग,पैराग्लाइडिंगजैसीगतिविधियोंकोराज्यकेदोनोंमंडलोंमेंबढ़ावादियाजारहाहै।येबातअलगहैकिपिछलेदोवर्षसेकोरोनासंकटकेकारणइसकीरफ्तारधीमीपड़ीहै।

बढ़ेगारोपवेकाआकर्षण

राज्यमेंसैलानियोंऔरतीर्थयात्रियोंकेलिएरोपवेपरियोजनाओंपरभीफोकसकियागयाहै।इसकड़ीमेंवर्ष2012मेंठुलीगाड-पूर्णागिरी,वर्ष2013मेंकद्दूखाल-सुरकंडादेवी,वर्ष2016मेंघांघरियासेहेमकुंडसाहिब,वर्ष2019मेंदेहरादून-मसूरी,वर्ष2020मेंगौरीकुंड-केदारनाथ,खरसाली-यमुनोत्रीसमेतअन्यरोपवेपरियोजनाओंकोस्वीकृतिदीगई।पिछलेवर्षरोपवेपरियोजनाओंकेमद्देनजरकेंद्रीयसड़कपरिवहनमंत्रालयसेएमओयूहुआ।पीपीपीमोडमेंबननेवालीइनपरियोजनाओंमेंनिजीक्षेत्रनेरुचिदिखाईहै।उम्मीदजगीहैकियेजल्दहीआकारलेंगी।

राज्यमेंआएसैलानी

चारधाममेंतीनवर्षोंमेंश्रद्धालु

धाम,वर्ष2019,2020,2021

केदारनाथ,1000011,135349,242712

बदरीनाथ,1244993,155055,197056

गंगोत्री,530334,23774,33166

यमुनोत्री,465534,7728,33306

यहभीपढ़ें- उत्तराखंडमेंढांचागतविकासनेपकड़ीरफ्तार,सड़कोंकेलिएस्वीकृतधनराशिपरडालेंनजर