विद्यालयों में समय से नहीं पहुंचते शिक्षक

-अध्यापकोंकीमनमानीसेबच्चेभीनहींआतेस्कूल

-देरसेखुलतेवसमयसेपहलेहीबंदहोजातेहैंविद्यालय

संवादसूत्र,सफदरगंज(बाराबंकी):परिषदीयविद्यालयोंमेंशिक्षासत्रकेपहलेमाहमेंअध्यापकोंकीओरसेसमयकाअनुपालननकरनेसेनौनिहालभीस्कूलआनेसेकतरानेलगेहैं।बनीकोडरवमसौलीशिक्षाक्षेत्रकेकुछपरिषदीयविद्यालयोंमेंपढ़नेवालेअभिभावकोंनेविद्यालयसमयसेनखुलनेकीशिकायतकी।

लखनऊ-फैजाबादराष्ट्रीयराजमार्गसेचंददूरीपरस्थितप्राथमिकविद्यालयपरसोलामेंसुबह7:25बजेविद्यालयबंदथा।विद्यालयमेंनछात्रआएऔरनहीशिक्षकग्रामीणोंनेबतायामास्टरजीअक्सरदेरसेआतेहैं।

मसौलीकेप्राथमिकविद्यालयसूर्यपुरखपरैलामेंसुबह7:40बजेकेवलअध्यापिकापुष्पाआयीथीं।शिक्षिकानेबतायाकिउनकेवरिष्ठकिसीकार्यसेगएहैं।विद्यालयमेंबच्चेभीनहींआएथे।आसपासकेलोगोंकीमानेंतोविद्यालयसमयसेनतोखुलताहैऔरनहीबंदहोताहै।जबकिस्कूलखुलनेकासमय7:12बजेतयहै।खंडशिक्षाअधिकारीबनीकोडरअजीतकुमार¨सहनेबतायाकिअध्यापकोंकेदेरसेआनेकीजांचकराईजाएगी।निरीक्षणकरकेदेरसेआनेवालेअध्यापकोंकेखिलाफकार्रवाईकीसंस्तुतिकीजाएगी।