विनाशकारी लहरों के आगे कब तक टिकेगा विद्या का मंदिर

पलियाकलां/बिजुआ(लखीमपुर):क्षेत्रमेंशारदानदीकीविनाशलीलाजारीहै।भीराक्षेत्रकेगांवजंगलनंबरसात,छंगाटांडाकाअस्तित्वसमाप्तकरनेकेबादअबनदीनेजगन्नाथटांडापरकहरबरपानाशुरूकरदियाहै।प्रशासनिकमदददूर-दूरतकनजरनहींआरहीहै।कटानपीड़ितोंकीसहायताकेलिएकुछसमाजसेवीआगेआएहैंताकिउनकीपरेशानियोंकोकुछकमकियाजासका।जंगलनंबरसातकाअस्तित्वखत्महोनेकेकगारपरहै।यहांस्थितविद्यालयकेसमीपशारदापहुंचचुकीहै।यहप्राथमिकविद्यालयकभीभीनदीमेंसमाजाएगा।प्रतापटांडाकोनिगलतेहुएतेजीसेनदीआगेबढ़रहीहै।छंगाटांडाकेप्राथमिकविद्यालयचमरौधापरभीकटानकाखतरामंडरानेलगाहै।ग्रामीणोंकीमानेतोकटानबहुततेजीसेहोरहाहैजिससेरातोंरातस्कूलसाफहोसकताहै।लोगोंकोउम्मीदथीगांवकेनन्नेमुन्नेबच्चेविद्यालयमेंपढ़लिखकरअपनेसाथसाथविद्यालयकाभीनामरोशनकरेंगें।लेकिनउन्हेंक्यापताथाकिकुदरतकोशायदकुछऔरहीमंजूरहै।पहलेतोमकानकटे,लोगबेघरहुएऔरअबविद्यालयभीनदीकीभेंटचढ़रहाहै।उधरग्रामश्रीनगरकीतरफभीनदीतेजीसेबढ़रहीहै,यहांकियागयाबचावकार्यनदीबहालेगई।

फूलबेहड़संवादसूत्रकेअनुसारक्षेत्रमेंबाढ़कापानीकमपड़तेहीगांवोंसेपानीनिकलनाशुरूहोगयाहै,लेकिनतमामजगहरास्ताकटजानेसेलोगपरेशानियांउठारहेहैं।ऐसीजगहोंपरनिकलनेमेंदिक्कतेंहोरहीहैं।क्षेत्रमेंबाढ़कापानीकमपड़ातोलोगोंनेराहतमहसूसकी,लेकिनबाढ़कीवजहसेजोरास्तेकटेहुएहैंवहांलोगोंकानिकलनामुश्किलहोरहाहै।टापरपुरवावबेड़हाकेबीचबनीपुलियाकटगईहै।इसपुलियाकेकटजानेसेलोगोंकाआवागमनबंदहोगयाहै।बच्चोंकोस्कूलजानेमेंकठिनाइयांहोरहीहैं।ग्रामीणोंनेइसरास्तेपरबिजलीकाखंभाडालाहैताकिलोगधीरे-धीरेपैदलनिकलसकें।