World Heart Day2020 : बच्ची के जन्मजात दिल की नस में थी तकलीफ, हुआ निःशुल्क इलाज

अजमेर,जागरणसंवाददाता।राष्ट्रीयबालस्वास्थ्यकार्यक्रममेंचिह्नित,जन्मजातदिलसेनिकलनेवालीनसमेंतकलीफ (पीडीए)सेग्रसित8वर्षीयमासूमबच्चीलताकाअजमेरकेमित्तलअस्‍पतालमेंनिःशुल्कउपचारहोगया।अबवहस्वस्थ है,उसेअस्‍पतालसेछुट्टीदीजाचुकीहै।पालीजिलेकेरोहटतहसीलस्थितग्रामदूदियानिवासीखेतीहरमजदूरजोगारामके अनुसारउसकीबेटीलताजन्मसेहीदिलकीतकलीफसेग्रसितथी,शुरुमेंचिकित्सकोंनेजांचकरउसकेउपचारकेलिए ऑपरेशनकरानेकीसलाहदीथीकिन्तुउसकेपासपर्याप्तधननहींहोनेसेवहभगवानभरोसेचुपबैठगया।

जांचकेलिएपहुंचीमोबाइलहेल्थटीम

पिछलेदिनोंगांवकीहीआंगनबाड़ीस्कूलमेंबच्चोंकेस्वास्थ्यजांचकेलिएपहुंचीमोबाइलहेल्थ टीमनेस्क्रीनिंगकेदौरान बच्चीकोचिह्नितकरउसकानामजिलास्तरपररैफरकियाथा।पालीकेसीएमएचओडॉ.आरपीमिर्धा,आरसीएचओडॉ. उजमाजबीनतथाएडीएनओडॉ.शिवशंकरशर्मानेउनकीबहुतमददकी।उन्होंनेहीबच्ची कोअजमेरकेमित्तलअस्‍पतालभेजाजहांदिलकेडॉक्टरविवेकरावतनेबच्चीकाऑपरेशनकरउसेठीककरदिया।बच्चीअबस्वस्थहैमजेसे खा-पीरहीहैऔरअच्छीबातेकरनेलगीहै।

हमेशानिमोनियासेपीडि़तरहतीथीबच्‍ची

हार्टएंडवास्कुलरसर्जनडॉ.विवेकरावतनेबतायाकिदिलकीमहाधमनीसेनिकलनेवालीनसजोपल्मोनरीधमनी(हृदय सेफेफड़ोंतकरक्तपहुंचानेवाली)सेजुड़तीहै,वहजन्मके10से14दिनबादस्वतःबंदहोजातीहै।इसबच्चीकेयह नसस्वतःबंदनहींहुईइसलिएइसेपरेशानीहोतीथी।बच्चीकासमान्यबच्चोंकीतरहविकासनहींहोपारहाथा।उसे हमेशानिमोनियारहताथा।शरीरमेंकमजोरीरहतीथी।खेलतेहुएजल्दीथकजातीथी।जिसकेकारणवहअन्यबच्चोंकी तरहसामान्यजीवननहींजीपारहीथी।डॉ.विवेकरावतकीमानेतोउन्होंनेछातीकेबाएंओरसेछोटाचीरालगाकर बच्चीकीउसनसकोबंदकरदिया।साथहीबच्चीकोऑपरेशनकेदूसरेदिनहीअस्‍पतालसेछुट्टीदेदी।

सरकारीयोजनाओंमेंनि:शुल्कऑपरेशन

यहांउल्लेखनीयहैकिकोरोनाकालमेंजबसरकारीअस्पतालोंमेंभीसिर्फइमरजेंसीऑपरेशनकिएजारहेहैं,मित्तल हॉस्पिटलआरबीएसकेएवंआयुष्मानभारतमहात्मागांधीराजस्थानस्वास्थ्यबीमाजैसीसरकारीयोजनाओंमेंनि:शुल्क ऑपरेशनभीपूरीशिद्दतसेकररहाहै।डॉविवेकरावतनेबतायास्वस्थहृदयहमसभीसकेस्वास्थ्यकीकुंजीहै।कोरोना कालमेंतोइसेसंभालनाहीहै।हेल्दीलाइफस्टाइलअपनाए,तनावकमकरेंऔरठीकसेनींदलेवें,नियमितव्यायामकरेंव पोषकआहारलें।

निःशुल्करोगनिदान

निदेशकडॉदिलीपमित्तलनेबतायाकिराज्यसरकारकेचिकित्सास्वास्थ्यएवंपरिवारकल्याणविभागनेराष्ट्रीयबाल स्वास्थ्यकार्यक्रम(आर.बी.एस.के)अन्तर्गतउपचारकेलिएमित्तलअस्‍पतालकोमान्यताप्रदानकीहै।डॉ.मित्तलने बतायाकिइसमेंबच्चोंकास्वास्थ्यपरीक्षणसभीसरकारीविद्यालयोंवआंगनबाड़ीकेंद्रोंपरसमर्पितमोबाइल हेल्थ टीमके द्वाराकरायाजाताहै।बच्चोंमेंसंभावितविकारोंकीजांचकरउन्हेंसंबंधितगठितसमितिद्वाराचिंहितकियाजाताहैऔर उन्हेंबड़ेचिकित्सालयोंमेंभेजकरनिःशुल्करोगनिदानमुहैयाकरायाजाताहै।

यहांध्यानदेनेयोग्यबातहैकिजन्मजातविकार-विकृतिमेंपोषकतत्वोंजैसेविटामिनोंकीकमीसेहोनेवालेविकार, गंभीरबीमारीसेपीड़ितअथवाशारीरिकविकासमेंकमीवशारीरिकअयोग्यतावालेबच्चोंकोइसयोजनामेंशामिलकिया गयाहै।यदिकोईबच्चासूचिबद्ध30चिंहितबीमारियोंजैसेहृदयमेंवॉल्‍वकीखराबी,दिलमेंछेद,अन्यदिलसंबंधित जन्मजातविकारआदिअन्यकिसीतरहकीशारीरिकअयोग्यताआदिसेग्रसितपायाजाताहैतोइसेआगेइलाजकेलिए रैफरलफोलोअपनिःशुल्कप्रदानकियाजाताहै।कार्यक्रमकेतहतजिनबच्चोंकेसर्जिकलइलाजकीजरूरतहोतीहैवहभी निःशुल्कमुहैयाकरायाजाताहै।निदेशकमनोजमित्तलनेबतायाकिमित्तलअस्‍पतालनेअबतकतकरीबन50रोगियोंकोराष्ट्रीयबालस्वास्थ्यकार्यक्रमकेअन्तर्गततथालगभग3675रोगियोंकोआयुष्मानभारतमहात्मागांधीराजस्थानस्वास्थ्यबीमायोजनाकेतहतनिशुल्कउपचारमुहैयाकरायाहै।