यूपी: अब घर में तय सीमा से अधिक रखनी है शराब तो लेना होगा लाइसेंस

उत्तरप्रदेशसरकारआबकारीनीतिमेंबड़ाबदलावकरनेजारहीहै.राज्यकीयोगीआदित्यनाथसरकारअबअपनेघरमेंसीमासेअधिकशराबरखनेकेलिएलाइसेंसजारीकरनेजारहीहै.राज्यसरकारनेनईआबकारीनीतिपरअपनीमुहरलगादीहै.

राज्यसरकारनेयहनईव्यवस्थासाल2021-22केलिएजारीआबकारीनीतिमेंकीहै.अगरकिसीकोअपनेघरमेंइस्तेमालकेलिएतयसीमासेज्यादाशराबरखनीहैतोउसकेलिएआबकारीविभागसेआवेदनकरकेलाइसेंसहासिलकरनीहोगी.

वर्ष2021-22केलिएविदेशीशराब,बीयरऔरशराबकेअग्रिमभंडारणकीअनुमति15फरवरीसेदीजाएगी.

योगीसरकारनेआबकारीविभागसेअगलेवित्तीयवर्षमें6हजारकरोड़बढ़ाकर34,500करोड़रुपयेकीराजस्वप्राप्तिकालक्ष्यरखाहै,जिसकेतहतउत्तरप्रदेशमेंशराबउत्पादनकाप्रोत्साहनकियागयाहै.नईनीतिकामकसदईजऑफडूइंगबिजनेसऔरगुडगवर्नेंसकोबढ़ावादेनाहै.

मुख्यमंत्रीयोगीआदित्यनाथकीअगुवाईमेंमंत्रिमंडलनेशुक्रवारकोसाल2021-22केलिएनईआबकारीनीतिकोअनुमोदितकरदिया.सरकारकीओरसेशनिवारकोजारीआधिकारिकबयानकेमुताबिकआबकारीनीतिकीमुख्यबातोंमेंफुटकरदुकानोंमेंपीओएसमशीनेंलगानाऔरवाइनउत्पादनकोप्रोत्साहनदेनेकेअलावानिर्धारितफुटकरसीमासेअधिकमदिरारखनेकेलिएविशेषलाइसेंस,हवाईअड्डोंपरप्रीमियमरिटेलब्रांडकीउपलब्धताऔरदेशीशराबकेअधिकतमफुटकरविक्रयमूल्यमेंकिसीतरहकीकोईवृद्धिनहींहोनाशामिलहै.

सरकारकीओरसेजारीबयानकेमुताबिक,साल2020-21केअनुमानित28,340करोड़रुपयेकेराजस्वकीतुलनामें2021-22में34,500करोड़रुपयेराजस्वकालक्ष्यरखागयाहै.