हई स्कूल क इंग्लश पेपर

दरबान सिंह (1914), राइफलमैन गबर सिंह (1915) व लेफ्टिनेंट कर्नल यूडी कैनी (1920) की प्रतिमाएं भी गढ़वाल राइफल्स के गौरवपूर्ण इतिहास की याद दिलाती हैं। विदित हो कि 1948 में तीसरी गढ़वाल राइफल्स ने पाकिस्तान के टिथवाल से पाकिस्तानी सेना को महज चौबीस घंटे में खदेड़ दिया था। वहीं, तीसरी गढ़वाल ने कोकाई की स्पीन धारा रिज में भी जीत हासिल की, जिसके बाद इस रिज का नाम ही गढ़वाल रिज पड़ गया। इन दोनों युद्धों की विजय झलक संग्रहालय में देखी जा सकती है।

तिथि समाप्त होने के बाद नामांकन का दबाव

गुरुजी गायब, राह देखते रहे नौनिहाल

गुरना प्राथमिक विद्यालय के पांच बच्चों ने पास

परेड पूर्वाभ्यास में 25 टुकड़ियों ने लिया भाग

लखनऊ के स्‍कूल बस में बच्‍चों के साथ खिलवाड़

सरकारी विद्यालयों में दिखा नजारा कही खुला, कह

सरस्वती आराधना से गूंजे स्कूल, अतिथि बने विद्

केवी सीएमईआरआइ के विकास पर संतुष्टि

गाजीपुर में पूरी रात चली एसटीएफ की छापेमारी,

5 कमरों में चलते हैं 3 सरकारी स्कूल, 3 शिफ्ट

फर्रुखाबाद में तीन विद्यालय मिले बंद, शिक्षक

तीरंदाजी में सत्यम ने मारी बाजी

परीक्षा में सख्ती, पढ़ाई में ढिलाई

राजस्थान में भाजपा ने कर्मचारी की खुदकुशी को

दयानंद स्कूल सरकाघाट के मेधावी नवाजे

भ्रष्टाचार की आरोपित प्रधानाध्यापक बिना जांच

आज से खुलेंगे परिषदीय विद्यालय, नौनिहालों मे

रोक के बाद भी खुल रहे आठवीं तक के स्कूल

स्वर्णिम अतीत वाले जिला स्कूल का भविष्य सुनहर

प्राइवेट स्कूल खुलने पर भड़के अभिभावक