कड्स स्कूल नयर में

जागरण संवाददाता, बोकारो: कोरोना काल में शिक्षा का स्वरूप पूरी तरह से बदल गया। इस वर्ष मार्च माह से ही स्कूल, कालेज व तकनीकी संस्थानों को बंद कर दिया गया। विद्यार्थी विद्यालय से दूर रहे। इससे शिक्षण व्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। सरकारी व निजी विद्यालय की ओर से विद्यार्थियों को आनलाइन शिक्षा दी जा रही है। आवासीय विद्यालय में रहने वाले विद्यार्थियों को घर भेज दिया गया। शिक्षक वाट्सएप के माध्यम से विद्यार्थियों को विषयवार कंटेंट उपलब्ध कराते हैं। वे विद्यार्थियों की शंका का समाधान करते हैं। मैट्रिक व इंटरमीडिएट की परीक्षा में विद्यार्थियों ने ख्याति के अनुरूप प्रदर्शन किया।

शिक्षकों के इंतजार में घंटों स्कूल में बैठे र

बच्चों के भविष्य के लिए सरकार का निर्णय बेहतर

प्रधान जी, दूर करा दो स्कूल की दुर्दशा

कोरोना महामारी के कारण वीरान पड़े विद्या के मं

Punishments: आगरा की चर्चित खंड शिक्षाधिकारी

पहले था बदहाल, अब नजीर बन गया यह सरकारी विद्य

मैनपुरी: खत्म हुआ मनमानी का खेल, खुल गया स्कू

शिक्षा का हाल : एक कमरे में मध्य विद्यालय

हुसैनाबाद अनुमंडल में बगैर रजिस्ट्रेशन के कई

माध्यमिक परीक्षा में हावड़ा के आदर्श विद्यामं

जूनियर स्तर के स्कूल खुले, लौटी रौनक

विवेकानंद स्कूल का छात्र अर्जुन परीक्षा परिणा

वाराणसी में शिक्षा विभाग की जांच कमेटी ने अब

बच्चे पहुंचे स्कूल, शिक्षकों ने बरसाए फूल

विजेताओं को मेडल से किया सम्मानित

सीएनडी को 75 साल में विधायक से नहीं मिला एक र

खत्म इंतजार, दस माह बाद कल स्कूल होंगे गुलजार

शिक्षिका की प्रतिनियुक्ति के विरोध में स्कूल

निलंबित शिक्षकों के बचाव में आया टीचर्स फोरम

दस बजे तक नहीं खुला स्कूल, बैरंग लौटे बच्चे